ज्यादा उपवास के फायदे और नुकसान | Fasting Benefits & Side Effects in Hindi

मनुष्य हजारों सालों से उपवास करता आ रहा है, लेकिन आधुनिक रिसर्च अभी इसकी शक्तियों के बारे में खुलकर बता रहा है। हमारा जीवन भोजन के इर्द-गिर्द घूमता है। आज के समय में भोजन तक पहुंचना इतना आसान है कि हम शायद ही इसके बारे में सोचते हैं।

व्रत की परंपरा हमारे भारत में काफी प्रचलित है। यहाँ पर महिलाएं सबसे अधिक व्रत का पालन करती है। उपवास का अर्थ है एक निश्चित समय तक भोजन न करना। सीधे शब्दों में कहें तो आप एक निश्चित समय के लिए पूरी तरह से या लगभग पूरी तरह से खाना बंद कर देते हैं।

एक उपवास आमतौर पर 12 से 24 घंटे तक रहता है। लेकिन कई बार यह कई दिनों तक जारी रहता है। कई बार लोग व्रत के दौरान कुछ हल्का भोजन भी करते हैं, जैसे चाय, पानी आदि।

व्रत बौद्ध धर्म, ईसाई धर्म, हिंदू धर्म, इस्लाम और यहूदी धर्म जैसी लगभग हर प्रमुख धार्मिक परंपरा में कॉमन है। प्राचीन ग्रीस में हिप्पोक्रेट्स का मानना था कि यह शरीर को खुद को ठीक करने में मदद करता है।

रमजान के दौरान कई मुसलमान एक महीने के लिए हर दिन भोर से सूर्यास्त तक उपवास करते हैं। इसने वैज्ञानिकों को इस बारे में काफ़ी जानकारी प्रदान की है कि जब आप उपवास करते हैं तो आपके शरीर में क्या होता है।

हिन्दू धर्म में नवरात्रों के दौरान व्रत की परंपरा सबसे कॉमन है। अभी तक हुए रिसर्च से पता चलता है, कि व्रत के बहुत सारे फायदे हैं। लेकिन इसके कुछ नुकसान भी है। तो आइए जानते हैं, व्रत के फायदे और नुकसान के बारे में।

उपवास क्या है?

upvas kya hai

सीधे शब्दों में कहें तो उपवास का मतलब एक निश्चित समय के लिए खाने से परहेज करना है। उपवास को वैज्ञानिक साहित्य में इसके स्वास्थ्य लाभ और बुढ़ापा रोधी गुणों पर इसके प्रभाव के कारण काफी शोहरत मिली है।

आधुनिक आहार में भोजन लगातार हमारी पहुँच के भीतर होता है। हमारे पूर्वजों हालांकि आनुवंशिक रूप से हमारे समकालीन थे, उनके पास रेफ्रिजरेटर, रासायनिक परिरक्षक या फूड सोर्स भी नहीं थे।

नतीजतन हमारे शरीर ने खाने के बिना लंबे समय तक जीना सीखा था। उपवास के उपापचयी प्रभावों को खाने के 3 से 5 घंटे बाद देखा जा सकता है। एक व्यक्ति को आम तौर पर 8 से 12 घंटों का उपवास करना चाहिए।

इस तरह से दिन के पहले भोजन को ‘ब्रेकफास्ट’ कहा जाता है क्योंकि यह सोते समय किए गए व्रत को तोड़ता है। उपवास को अक्सर एक प्रकार के आहार के रूप में माना जाता है। लेकिन यह तकनीकी रूप से गलत है।

आहार से तात्पर्य है कि आप क्या खाते हैं, जबकि उपवास का संबंध कुछ भी न खाने से हैं। आप लंबे समय तक उपवास रख सकते हैं, लेकिन उपवास के बाद किए गए भोजन की न्यूट्रिशन वैल्यू अधिक होनी चाहिए।

उपवास कैसे काम करता है?

लीवर की कीटोन बनाने की प्रक्रिया कुछ इस तरह से है: ग्लूकोज (शुगर) मुख्य ईंधन है जिसका उपयोग आपकी कोशिकाएं ऊर्जा पैदा करने के लिए करती हैं। उपवास लीवर के ग्लूकोज के स्टोर का उपयोग करता है, जिससे कोशिकाएं फैट रिलीज करती हैं।

जब यह फैट आपके लीवर में जाते हैं, तो यह फैट आपके शरीर द्वारा ऊर्जा के लिए उपयोग किए जाने वाले कीटोन्स में परिवर्तित हो जाती है। प्राचीन समय में जब मनुष्य खेती करना सीखे थे, तो इसके पहले वे शिकार करके जीवित रहने के लिए भोजन इकट्ठा करते थे।

इस दौरान वे बिना कुछ खाए-पिए काफी देर तक घूमते रहते थे। फल या शिकार को इकट्ठा करने में बहुत ऊर्जा और समय लगता था। इसके बाद मानव शरीर ऊर्जा का भंडार करने के लिए फैट इकट्ठा करने लगा।

हालांकि आज हमको अपने पूर्वजों की तरह शिकार करने और अपना भोजन इकट्ठा करने की आवश्यकता नहीं है। लेकिन फिर भी उपवास करने से आपके शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य में लाभ होता है।

इंटरमिटेंट फास्टिंग में आप एक निश्चित समय के दौरान कुछ नहीं खाते हैं। जब आप कुछ समय तक भोजन नहीं करते हैं, तो शरीर अपने सभी शुगर स्टोरेज का उपयोग करता है और फैट को जलाना शुरू कर देता है।

यह एक घटना है जिसे चयापचय स्विचिंग के रूप में जाना जाता है। जिस समय आप नहीं खा रहे हैं, उस दौरान आप पानी और जीरो-कैलोरी पेय जैसे ब्लैक कॉफी और चाय पी सकते हैं।

इसके अलावा अपने खाने की अवधि के दौरान, आप “सामान्य रूप से खा सकते हैं,” लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि आप जो चाहें खा लें। इस दौरान हाइ कैलोरी वाले जंक फूड, तले हुए भोजन से दूर रहने की सलाह दी जाती है।‌

लंबे समय तक भोजन के बिना, जैसे कि 24, 36, 48 और 72 घंटे की उपवास अवधि खतरनाक होती है। यदि आप खाने के बिना बहुत लंबे समय तक रहते हैं, तो यह शरीर को अधिक फैट जमा करने के लिए प्रोत्साहित करता है।

उपवास रखने के फायदे क्या है?

fasting benefits in hindi

यदि आप एक स्वस्थ व्यक्ति हैं, तो आपको व्रत से कोई नुकसान नहीं है। आपके शरीर को अच्छे पोषण और ईंधन की आवश्यकता होती है। इसलिए पहले अपने डॉक्टर से बात करें, खासकर अगर आपको स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं हैं या किसी तरह की दवा लेते हैं।

उपवास का अर्थ है प्रत्येक दिन कुछ समय के लिए भोजन न करना। इस दौरान आप कई घंटों तक नहीं खाते हैं या दिन में केवल एक बार भोजन करते हैं। निश्चित अवधि तक कुछ नहीं खाने से कीटोन के स्तर को बढ़ाने में मदद मिलती है।

केटोन्स ऐसे रसायन हैं जिनका उपयोग आपका लीवर ऊर्जा के रूप में करता है। लेकिन उपवास से सिर्फ यही फायदा नहीं है। यह स्वास्थ्य और मानसिक लाभ भी प्रदान करता है, जिसकी आप अपेक्षा नहीं कर सकते हैं।

1. वजन कम होता है

उपवास वजन घटाने में सहायता करता है और वो भी सकारात्मक रूप से। अगर आप 12 घंटों का भी उपवास करते हैं, तो यह भी काफी फायदेमंद है। शोध बताते हैं कि दिन का उपवास वजन घटाने के लिए कम कैलोरी वाले आहार जितना ही प्रभावी होता है।

उपवास शरीर में चयापचय प्रक्रियाओं को भी प्रभावित करता है जो सूजन को कम करने के साथ-साथ ब्लड शुगर के regulation और शारीरिक तनाव प्रतिक्रिया में सुधार करता है।

एक व्यक्ति को हर दिन 12 घंटे का उपवास करना चाहिए। कुछ शोधकर्ताओं के अनुसार 10-16 घंटे उपवास करने से शरीर स्टोर की गई फैट को ऊर्जा में बदलता है, जो कीटोन्स को रक्तप्रवाह में छोड़ता है। इससे वजन कम होता है।

2. इंसुलिन संवेदनशीलता में वृद्धि

उपवास आपके डायबिटीज़ होने के जोखिम को कम करता है। रिसर्च से यह साबित हुआ है कि सप्ताह में सिर्फ एक बार उपवास करने और उस दिन सिर्फ पानी पीने से डायबिटीज़ से पीड़ित होने की संभावना कम होती है।

इतना ही नहीं व्रत करने से कोलेस्ट्रॉल लेवल और ब्लड प्रेशर भी कम होता है। कम से कम 16 घंटे उपवास करने से शरीर को आराम करने का मौका मिलता है और रक्त में इंसुलिन का स्तर काफी कम हो जाता है।

यह न केवल फैट जलाने में मदद करता है, बल्कि यह डायबिटीज़ के जोखिम को भी कम करता है। उपवास के दौरान, मानव कंकाल की मांसपेशी अपने ऊर्जा सब्सट्रेट चयापचय के लिए लिपिड ऑक्सीकरण पर निर्भर करती है।

3. रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है

लंबे समय तक उपवास आपके इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाता है। जब शरीर लंबे समय तक भोजन के लिए भूखा रहता है, तो ऊर्जा बचाने के लिए यह इम्यून कोशिकाओं को रीसायकल करता है, जिससे आपको बीमारियों से लड़ने की एक नई ताकत मिलती है।

उपवास वजन घटाने, ब्लड शुगर को कंट्रोल करने और सूजन में कमी करने सहित कई स्वास्थ्य लाभ प्रदान करता है। यह कैंसर और न्यूरोडीजेनेरेटिव विकारों जैसी कुछ स्थितियों से भी सुरक्षा प्रदान करता है।

4. Detoxification

जब आपका शरीर उपवास कर रहा होता है, तो वह बेमतलब ऊर्जा की खपत करने वाली किसी भी चीज को बाहर निकालने की कोशिश करता है। इससे शरीर में जमा विषाक्त पदार्थ बाहर निकल जाते हैं।

रिसर्च से पता चलता है, कि इससे एंडोर्फिन हार्मोन का लेवल बढ़ता है। जो हमें उपवास के बाद अच्छा और खुश महसूस कराता है।

5. कोलेस्ट्रॉल कम करता है

उपवास ट्राइग्लिसराइड्स को कम करने के लिए जाना जाता है, जो हृदय रोग पैदा करने के लिए जिम्मेदार होते हैं। ट्राइग्लिसराइड्स खराब कोलेस्ट्रॉल पैदा करते हैं। दिलचस्प बात यह है कि उपवास करने से शरीर में अच्छे कोलेस्ट्रॉल को कोई नुकसान नहीं होता है।

6. लेप्टिन बढ़ाता है

फैटयुक्त ऊतक कई प्रकार के हार्मोन रिलीज करते हैं। ऐसा ही एक हार्मोन लेप्टिन है जो यह तय करता है कि आप भोजन के बाद कैसा महसूस करते हैं। उपवास वजन घटाने में हेल्प करता है। क्योंकि इससे आप अधिक भरा हुआ महसूस करते हैं।

इस प्रकार आप जितने दुबले होते हैं, आपको उतनी ही कम भूख लगती है। इस दौरान लेप्टिन की ग्रहणशीलता में वृद्धि के कारण, आप भोजन के पहले भरा हुआ महसूस करते हैं।

7. आपको यंग बनाता है

शोध से पता चला है कि उपवास जानवरों में उम्र बढ़ने की प्रक्रिया को धीमा कर देता है। मनुष्यों पर अभी भी निर्णय नहीं हुआ है, लेकिन बहुत से लोग मानते हैं कि उपवास फ्री रेडिकल्स को कम करता है, जो मुख्य रूप से उम्र बढ़ने के लिए जिम्मेदार होते हैं।

उपवास को जीवन काल बढ़ाने के लिए भी माना जाता है।

8. हार्ट स्वस्थ रहता है

उपवास खराब कोलेस्ट्रॉल को कम करता है, रक्त की मात्रा को नियंत्रित करता है और ब्लड प्रेशर को सामान्य करता है। जानवरों पर किए गए शोधों ने हृदय की मांसपेशियों को अधिक कुशल बनाने और हृदय में रक्त वाहिकाओं के विकास को तेज करने के लिए सिद्ध किया है।

हालांकि डायबिटीज़ वाले लोग, हाइ ब्लड प्रेशर से पीड़ित लोग, गर्भवती और स्तनपान कराने वाली माताओं को उपवास नहीं करना चाहिए।

9. ब्रेन फंक्शन को बूस्ट करता है

उपवास मस्तिष्क-व्युत्पन्न न्यूरोट्रॉफिक कारक (BDNF) नामक प्रोटीन के उत्पादन को बढ़ाकर ब्रेन को हैल्थी बनाता है। मस्तिष्क की कोशिकाओं की सुरक्षा के अलावा, यह प्रोटीन अल्जाइमर और पार्किंसंस रोग को रोकने में भी मदद करता है।

पशु अध्ययनों से पता चलता है कि उपवास ग्लूकोज के बजाय ईंधन के लिए कीटोन प्रदान करके मस्तिष्क की कोशिकाओं की रक्षा करता है। केटोन्स मस्तिष्क को मस्तिष्क-व्युत्पन्न न्यूरोट्रॉफिक कारक (BDNF) का उत्पादन करने में मदद करते हैं।

यह एक यौगिक है, जो मस्तिष्क की नई कोशिकाओं के विकास और उनके बीच नए कनेक्शन को बढ़ाता है।

10. मुँहासे कम करता है

उपवास स्किन को साफ करने में मदद करता है। केवल एक दिन के लिए भोजन न करने से शरीर में विषाक्त पदार्थों को दूर करने की क्षमता में सुधार होता है। इससे लीवर, किडनी और अन्य अंगों को ठीक से काम करने में मदद मिलती है।

11. मानसिक कार्यविधि में सुधार

जब आप उपवास करते हैं, तो आपके शरीर में रक्त और lymphatic system के माध्यम से कम विषाक्त पदार्थ प्रवाहित होते हैं, जिससे आपके लिए सोचना आसान हो जाता है।

उपवास करते समय आप आमतौर पर भोजन को पचाने के लिए जो ऊर्जा उपयोग करते हैं, वह मस्तिष्क के उपयोग करने के लिए उपलब्ध होती है। उपवास के पहले कुछ दिनों तक आपका शायद इस मानसिक परिवर्तन पर ध्यान नहीं जाएगा।

क्योंकि आपके शरीर को समायोजित होने में समय लगता है। प्रक्रिया की शुरुआत में आपको सिरदर्द या दर्द हो सकते हैं। लेकिन आपके शरीर के विषाक्त पदार्थों को साफ करने के बाद, आपके दिमाग को एक साफ रक्तप्रवाह तक पहुंच प्राप्त होती है।

जिसके परिणामस्वरूप स्पष्ट विचार, बेहतर मेमोरी और आपकी अन्य इंद्रियों की तीक्ष्णता बढ़ जाती है।

ज्यादा उपवास करने के नुकसान क्या है?

jyada upvas karne ke nuksan

उपवास कई स्वास्थ्य लाभ प्रदान करता है। लेकिन यह अधिक भूख, सिरदर्द, थकान और मूड के मुद्दों जैसे अप्रिय दुष्प्रभाव भी पैदा करता है। इसका सही तरीके से पालन करना महत्वपूर्ण है, क्योंकि इससे कुपोषण हो सकता है।

1. अधिक भूख लगना

लोग आमतौर पर उपवास के दौरान अधिक भूख महसूस करते हैं, लेकिन ज्यादा भूख खतरनाक साबित हो सकती है। आमतौर पर आपको शुरुआत में सामान्य से अधिक भूख लगती है।

कुछ अध्ययनों की रिपोर्ट है कि यह समय के साथ यह समस्या खत्म हो जाती है, लेकिन हमेशा ऐसा नहीं होता है। ज्यादा समय के लिए शरीर को बिना भोजन के रखना काफी कठिन होता है।

जब उपवास रखते हैं, तो आपको ज्यादा भूख लगती है। यह तब अधिक होता है, जब आपने अभी-अभी व्रत रखना शुरू किया हो। इस भूख से आप चिड़चिड़ा और काफी असंतुष्ट महसूस करते हैं।

2. हल्के से मध्यम सिरदर्द

लंबे समय तक लगातार खाने से दूर रहने से ब्लड शुगर का स्तर कम हो जाता है जो हल्के से मध्यम सिरदर्द का एक सामान्य कारण है। यह सिरदर्द आमतौर पर ब्रेन के सामने वाले क्षेत्र में होता है।

3. ब्रेन फॉग और लाइटहेडनेस

थकान उपवास का मुख्य दुष्प्रभाव है। इससे ब्रेन फॉग यानी सही सोच और ब्रेन प्रोसेसिंग की कमी हो जाती है। यह आलस्य की भावना को भी बढ़ाता है जिसमें आपको बेहोशी और चक्कर आने की तीव्र अनुभूति होती है।

4. पाचन संबंधी चिंताएँ

कब्ज, दस्त, मतली, सूजन जैसी पाचन संबंधी समस्याएँ उपवास के दौरान आमतौर पर होती है। इंटरमिटेंट फास्टिंग खाने के पूरे पैटर्न को बदल देता है, इसका सीधा असर पाचन तंत्र की कार्यप्रणाली पर पड़ता है।

5. लॉ एनर्जी

उपवास के दौरान ब्लड शुगर के स्तर में गिरावट से आपको एनर्जी कम मिलती है। इसके अलावा उपवास से भूख लगने की इच्छा, चिड़चिड़ापन और एकाग्रता की कमी के साथ, आप अपने नियमित कार्यों को जारी रखने के लिए शक्ति और प्रेरणा की कमी भी महसूस करेंगे।

6. बार-बार मूड बदलना

उपवास ब्लड शुगर के स्तर में गिरावट का कारण बनता है जिससे बार-बार मूड में बदलाव होता है। बार-बार मिजाज बदलना महिलाओं में इंटरमिटेंट फास्टिंग के सबसे आम दुष्प्रभावों में से एक है।

7. सांसों की बदबू

सांसों की बदबू एक अलोकप्रिय इंटरमिटेंट फास्टिंग साइड इफेक्ट है। खाने की कमी से से मुंह में लार का प्रवाह भी कम हो जाता है। यह सांस में एसीटोन को जन्म देता है जो सांसों में बदबू पैदा करने के लिए जिम्मेदार होता है।

8. हार्मोनल असंतुलन

उपवास शरीर के हार्मोन के साथ खिलवाड़ करता है। इससे नींद में खलल पड़ता है। महिलाओं में इंटरमिटेंट फास्टिंग के दुष्प्रभाव गंभीर हो सकते हैं क्योंकि इससे अनियमित मासिक धर्म और प्रजनन संबंधी समस्याएं होती हैं।

9. निर्जलीकरण (Dehydration)

इंटरमिटेंट फास्टिंग के पहले कुछ दिनों में पेशाब में बड़ी मात्रा में पानी और नमक निकल जाता है। चिकित्सकीय रूप से इसे उपवास के प्राकृतिक मूत्राधिक्य या नैट्रियूरिसिस के रूप में जाना जाता है।

यदि तरल पदार्थ और इलेक्ट्रोलाइट्स की समय पर पूर्ति नहीं की जाती है, तो इससे निर्जलीकरण हो सकता है।

10. कुपोषण

इंटरमिटेंट फास्टिंग के समय कुछ भी नहीं खाया जाता है। इस प्रकार जब आप भोजन करते हैं तो यह महत्वपूर्ण है। आप जिस आहार का सेवन करते हैं, वह आपको उपवास की अवधि में जीवित रहने के लिए ऊर्जा और पोषक तत्व प्रदान करेगा।

जो लोग खाने की व्यवस्था का ठीक से पालन नहीं करते हैं, उनके कुपोषित होने की संभावना अधिक होती है।

11. बालों का झड़ना और स्किन की समस्याएं

बालों का झड़ना और स्किन की समस्याएं लंबे समय उपवास करने के दुष्प्रभावों में से एक हैं। अगर लंबे समय तक इंटरमिटेंट फास्टिंग का सही तरीके से अभ्यास नहीं किया जाता है तो इससे पोषण और शरीर की आवश्यक चीजों की कमी हो जाएगी।

इससे बालों का झड़ना और त्वचा की समस्याएं होती हैं। सही तरीके से उपवास करना बहुत जरूरी होता है। और जब आप उपवास के बाद भोजन करते हैं, तो उस भोजन में पोषक तत्वों की कोई कमी नहीं होनी चाहिए।

12. थकान और सुस्ती

उपवास का एक संभावित दुष्प्रभाव एनर्जी के स्तर में कमी, थकान और सुस्ती है। जब शरीर उपवास की स्थिति में होता है, तो उसे भोजन का अपना सामान्य ऊर्जा स्रोत नहीं मिल पाता है, जो पूरे दिन ऊर्जा के स्तर को बनाए रखना मुश्किल बनाता है।

यह उन लोगों के लिए विशेष रूप से सच है जो पहले से ही थकान या लॉ एनर्जी के स्तर से जूझ रहे हैं। जब आप पहली बार व्रत या उपवास रखते हैं, तब थकान और सुस्ती अधिक दिखाई देती है।

उपवास निम्न लोगों को कभी नहीं रखना चाहिए-

  • गर्भवती महिलाएं
  • स्तनपान कराने वाली माताओं
  • किशोर बच्चे
  • बुजुर्ग और वरिष्ठ नागरिक
  • इम्युनोडेफिशिएंसी बीमारियों से पीड़ित लोग
  • खाने के विकार से पीड़ित लोग
  • डिमेंशिया जैसी मानसिक बीमारी वाले लोग
  • डायबिटीज़ से पीड़ित व्यक्ति
  • तंत्रिका संबंधी विकार वाले लोग
  • दवा लेने वाले व्यक्ति

लोग उपवास क्यों करते हैं?

उपवास अपने साथ ऐतिहासिक, आध्यात्मिक और राजनीतिक महत्व रखता है। उपवा ईसाई धर्म, इस्लाम, यहूदी धर्म, हिंदू धर्म, बौद्ध धर्म और कई अन्य धर्मों में एक आम परंपरा हैं। भूख हड़ताल भी एक प्रकार का उपवास है।

चिकित्सा कारणों से उपवास अधिक सामान्य है। एनेस्थेसिया के दौरान रोगी के पेट की सामग्री को कम करने के लिए सर्जरी से पहले इसकी आवश्यकता होती है। GI ट्रैक्ट को और नीचे साफ करने के लिए कोलोनोस्कोपी से पहले और भी लंबे समय तक उपवास की आवश्यकता होती है।

कुछ नैदानिक परीक्षणों में पहले से उपवास की आवश्यकता होती है, जैसे कि ब्लड शुगर को मापना। व्रत का इंसुलिन प्रतिरोध (डायबिटीज़) और हाइ कोलेस्ट्रॉल के लिए उपयोग किया जाता है। उपवास वजन घटाने की एक बेहतरीन स्ट्रेटजी है।

इस तरह से लोग ऐतिहासिक, आध्यात्मिक और राजनीतिक महत्व के कारण ही व्रत रखते हैं। लेकिन कई बार शरीर को स्वस्थ रखने के लिए भी उपवास का पालन किया जाता है। वैसे हम रात को लगभग 12 घंटों का उपवास रखते हैं।

उपवास के प्रकार

उपवास रुक-रुक कर या लंबे समय तक होता है। “आंतरायिक” का अर्थ है कि आप कुछ दिनों से कम समय के लिए उपवास करते हैं या आप खाने और उपवास के बीच स्विच करते हैं। “लंबे समय तक” का अर्थ है 2 दिन से लेकर कई सप्ताह तक उपवास करना।

आंतरायिक उपवास का एक लोकप्रिय रूप समय-प्रतिबंधित भोजन है। इसमें प्रत्येक दिन एक निश्चित समय की अवधि के भीतर ही भोजन करना होता है।

कुछ सबसे आम तरीकों में हैं-

  • 16/8: 8 घंटे के समय में भोजन करना (सुबह 10 बजे से शाम 6 बजे तक) और बाकी दिन उपवास करना
  • 18/6: 6 घंटे के समय में भोजन करना और शेष 18 घंटे उपवास करना
  • 20/4: 4 घंटे के अंतराल में भोजन करना और शेष दिन उपवास करना

आंतरायिक उपवास के अन्य प्रकारों में वैकल्पिक दिन उपवास और 5:2 आहार शामिल हैं। इसमें केवल 5 दिन भोजन करना और सप्ताह के अन्य 2 दिन उपवास करना होता है। लेकिन इन दोनों संस्करणों में लोग अक्सर अपने “उपवास” के समय में थोड़ी मात्रा में खाना खाते हैं।

दीर्घकालीन या आवधिक, उपवास कई दिनों या हफ्तों तक चलता है। इसे शुरू करने से पहले हमेशा अपने चिकित्सक से सलाह लें। उपवास के प्रकार के बावजूद, आपका शरीर ईंधन की कमी पर प्रतिक्रिया करता है।

संभावित उपवास के स्वास्थ्य लाभ होते हैं, लेकिन कुछ जोखिम भी हैं। उपवास हर किसी के लिए उपयुक्त नहीं होता है। आपके उपवास के बाद किए गए भोजन पर बहुत कुछ निर्भर करता है।

इन्हें भी जरुर देखे:

निष्कर्ष:

तो ये था उपवास के फायदे और नुकसान, हम उम्मीद करते है की इस आर्टिकल को पूरा पढने के बाद आपको फास्टिंग करने के बेनेफिट्स और साइड इफेक्ट्स के बारे में पूरी जानकारी मिल गयी होगी.

अगर आपको हमारी आर्टिकल अच्छी लगी तो इसको शेयर जरुर करें ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगों को उपवास करने के लाभ और नुकसान के बारे में सही जानकारी मिल पाए.

इसके अलावा क्या आप भी उपवास रखते हो? यदि हां तो आपको क्या बेनिफिट या साइड इफ़ेक्ट देखने को मिलते है उसके बारे में कमेंट में हमें जरुर बताएं.