रोज एक्सरसाइज करने के फायदे और नुकसान | Daily Exercise Benefits in Hindi

एक्सरसाइज की अहमियत को हम सभी बेखूबी जानते हैं। हम इंसानों का शरीर एक्टिविटी से अधिक चुस्त रहता है। हमारे पूर्वज ऐसे ख़ानाबदोश जीव थे, जो अपना ज्यादा समय भोजन और आवास ढूँढने में बिताते थे।

इसलिए एक्टिव लाइफस्टाइल जीना हम इंसानों के लिए बहुत जरूरी है, क्योंकि यही हमारी ग्रोथ का मुख्य कारण है। आज एक्सरसाइज के महत्व से तो सभी वाकिफ हैं, लेकिन क्या आप जानते हैं कि एक्सरसाइज क्यों जरूरी है? इसके फायदे नुकसान क्या है?

एक्सरसाइज हमारा वजन कंट्रोल करने की सबसे बढ़िया तकनीक है। व्यायाम से कैलोरी बर्न होती है, जिसके परिणामस्वरूप वजन कम होता है। यहां तक ​​कि तेज चलना जैसी सिम्पल एक्सरसाइज भी वजन घटाने पर सकारात्मक प्रभाव डालती हैं।

व्यायाम न केवल आपको चुस्त-दुरुस्त रखता है बल्कि यह आपको स्वस्थ रहने में भी मदद करता है। रेगुलर एक्सरसाइज से आपकी फिटनेस का स्तर बढ़ता है, जो बदले में आपके इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाता है और आपको सामान्य सर्दी जैसी बीमारियों के प्रति अधिक लचीला बनाता है।

नियमित रूप से एक्सरसाइज करने का एक कारण यह भी है कि इससे आपको ऊर्जा मिलती है। कॉफी पीने की बजाय, कसरत करने से पूरे शरीर में ऑक्सीजन को अधिक स्वतंत्र रूप से प्रवाहित करने में मदद मिलती है।

इससे आपको दिन गुजारने के लिए बहुत जरूरी ऊर्जा मिलती है। यह आपकी ओवरऑल सहनशक्ति को भी बढ़ाती है, जो शुरुआत में आपको लंबे समय तक ऊर्जावान बने रहने में मदद करती है।

कसरत करना हमारे सेहत के लिए क्यों जरूरी है?

हाल ही में हुए अध्ययनों से यह सिद्ध हो चुका है कि एक्सरसाइज एक प्रकार से मूड बूस्टर है। क्योंकि यह आपके मस्तिष्क में केमिकल्स छोड़ती है जो आपको खुशी महसूस करने में मदद करते हैं। इससे डिप्रेशन, HDHD और चिंता के प्रभावों को कम किया जा सकता है।

एक्सरसाइज से आपको रात में बेहतर नींद भी मिलती है, जो समग्र रूप से मूड को अच्छा बनाए रखने के लिए महत्वपूर्ण है। एक्सरसाइज लोगों को वजन कम करने और कुछ बीमारियों के खतरे को कम करने के लिए प्रोत्साहित करती है।

नियमित रूप से एक्सरसाइज करने से व्यक्ति में मोटापा, टाइप 2 डायबिटीज़ और हाइ ब्लड प्रेशर जैसी बीमारियों के विकसित होने का खतरा कम हो जाता है। व्यायाम से व्यक्ति की उम्र अच्छी होती है।

रेगुलर फिजिकल एक्टिविटी मांसपेशियों की ताकत में सुधार करने और आपकी सहनशक्ति को बढ़ाने में मदद करती है। एक नॉर्मल टार्गेट के रूप में हर दिन कम से कम 30 मिनट की फिजिकल एक्टिविटी का इरादा रखें।

यदि आप अपना वजन कम करना चाहते हैं, वजन को नियंत्रित करना चाहते हैं, या किसी प्रकार के फिटनेस गोल्स को पूरा करना चाहते हैं, तो आपको अधिक एक्सरसाइज करने की आवश्यकता हो सकती है।

इसके अलावा वार्म-अप भी शरीर के लिए बहुत फायदेमंद है। वार्मअप करने से आपके शरीर को एरोबिक एक्टिविटी के लिए तैयार करने में मदद मिलती है। वार्मअप आपके शरीर के तापमान को बढ़ाकर और आपकी मांसपेशियों में रक्त के प्रवाह को बढ़ाकर धीरे-धीरे हार्ट सिस्टम को हैल्थी बनाता है।

वार्म अप करने से मांसपेशियों के दर्द को कम करने और चोट लगने के जोखिम को कम करने में भी मदद मिलती है। एक्सरसाइज से आपको अधिकतर फैट जलाकर वजन कम करने में लाभ होता है। तो आइए जानते हैं, एक्सरसाइज करने के फायदे और नुकसान क्या है?

रोजाना एक्सरसाइज करने के फायदे क्या है?

exercise karne ke fayde aur nuksan

रेगुलर एक्सरसाइज करना ऊर्जा के स्तर को बढ़ाने और आपके मूड को बेहतर बनाने में मदद करता है। यह कई अन्य शक्तिशाली स्वास्थ्य लाभों से भी जुड़ा है, जिसमें पुरानी बीमारी का जोखिम भी कम हो जाता है।

एक्सरसाइज को उस मूवमेंट के रूप में परिभाषित किया जाता है, जो आपकी मांसपेशियों को मजबूत बनाता है और आपके शरीर से एक्सट्रा कैलोरी जलाने में मदद करता है। मतलब यह शरीर को लगातार मूव करने की एक कला है।

शारीरिक गतिविधियाँ कई प्रकार की होती हैं, जिनमें तैराकी, दौड़ना, टहलना, घूमना और डांस शामिल हैं। एक्टिव रहने से शारीरिक और मानसिक दोनों तरह से कई स्वास्थ्य लाभ होते हैं। यह आपको लंबे समय तक जीने में भी मदद करता है।

1. मूड अच्छा रहता है

एक्सरसाइज शरीर को शारीरिक रूप से उन तरीकों से बदलती है जो आपको ऊर्जावान महसूस करने में मदद करते हैं। एंडोर्फिन मस्तिष्क में न्यूरोकेमिकल्स या हार्मोन हैं, जो मस्तिष्क के हाइपोथैलेमस और पिट्यूटरी ग्रंथि में उत्पादित और संग्रहीत होते हैं।

जब आप व्यायाम करते हैं तो आपका शरीर उन्हें रिलीज करता है। खासकर जब आप मध्यम तीव्रता वाली एक्टिविटी जैसे एरोबिक एक्सर्साइज़, मध्यम तीव्रता वाली एक्सरसाइज और वेट लिफ्टिंग करते हैं।

रिसर्च से पता चला है कि व्यायाम के एक घंटे बाद एंडोर्फिन का लेवल बढ़ जाता है। एक्सरसाइज के बाद एंडोर्फिन रिलीज होने से दर्द से राहत मिलती है, तनाव कम होता है और आपकी हैल्थ अच्छी होती है। अगर आपका तनाव कम होगा तो आपका मूड अधिक बेहतर हो जाएगा।

जब आप एक्सरसाइज करते हैं तो मस्तिष्क में सेरोटोनिन, तनाव हार्मोन और एंडोर्फिन जैसे रसायनों का स्तर बदल जाता है। नियमित व्यायाम से आपको बेहतर नींद मिलती है। अच्छी नींद आपके मूड को अच्छा बनाने में मदद करती है।

आपके मूड को अच्छा बनाने और एंडोर्फिन को जल्दी से रिलीज करने के लिए कार्डियोवस्कुलर और एरोबिक एक्सरसाइज बहुत अच्छी हैं। एरोबिक एक्सरसाइज वह हैं जो आपकी हार्ट रेट को बढ़ाती हैं, जैसे जॉगिंग, तैराकी, साइकिल चलाना, तेज चलना या अण्डाकार ट्रेनर का उपयोग करना।

2. वजन कम होता है

एक्सरसाइज के अनगिनत लाभ हैं, और उन लाभों में से एक यह है कि यह आपको वजन कम करने में मदद करती है। व्यायाम कई तरह से वजन घटाने में मदद करता है। यह कैलोरी जलाता है, इसलिए यदि आप प्रतिदिन उपभोग से अधिक कैलोरी जलाने की कोशिश कर रहे हैं, तो एक्सरसाइज उसके लिए जरूरी है।

व्यायाम मांसपेशियों के निर्माण में भी मदद करता है। आपके पास जितनी अधिक मांसपेशियाँ होंगी, आपके चयापचय को ठीक से चालू रखने की संभावना उतनी ही अधिक होगी। यदि आप एक्सरसाइज किए बिना डाइट लेते हैं, तो आप फैट और मांसपेशियां खो देंगे।

जब आपके शरीर का वह हिस्सा जो मांसपेशियों से बना है सिकुड़ जाता है, तो आपकी चयापचय दर गिरने लगती है। इसलिए कुछ कैलोरी जलाने के अलावा, एक्सरसाइज आपके चयापचय को स्वस्थ रखने में मदद करती है।

एक और तरीका जिससे एक्सरसाइज अप्रत्यक्ष रूप से वजन घटाने में मदद करती है। वह है, एक्सरसाइज आपके मूड को बेहतर बनाने और तनाव को कम करने में मदद करती है। क्योंकि बहुत से लोग तनावग्रस्त होने पर अधिक खाते हैं, एक्सरसाइज ऐसा करने से रोकती है।

यदि आप एक नई एक्सरसाइज रूटीन शुरू करने पर विचार कर रहे हैं, तो आपको हमेशा अपने डॉक्टर से बात करनी चाहिए कि किस प्रकार का व्यायाम आपके लिए सुरक्षित है। लेकिन जब आपको हरी झंडी मिल जाए, तो आपको एरोबिक एक्सरसाइज और स्ट्रेंथ ट्रेनिंग एक्सरसाइज दोनों को करना चाहिए।

एरोबिक एक्सरसाइज जिसे कार्डियो भी कहा जाता है। इसमें दौड़ना, तेज चलना, साइकिल चलाना, तैरना, एरोबिक क्लासेज लेना, लंबी पैदल यात्रा करना शामिल है। लगभग हर कुछ, जो आपकी हार्ट रेट को बढ़ा देता है और लंबे समय तक फैट जलने में योगदान देता है।

3. मसल्स और हड्डियां मजबूत बनती है

एक्सरसाइज मांसपेशियों और हड्डियों को मजबूत बनाने और बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। पर्याप्त मात्रा प्रोटीन सेवन के साथ वेटलिफ्टिंग जैसी गतिविधियाँ मांसपेशियों के निर्माण को प्रोत्साहित करती हैं।

ऐसा इसलिए है क्योंकि व्यायाम हार्मोन रिलीज करने में मदद करता है जो आपकी मांसपेशियों की अमीनो एसिड को अवशोषित करने की क्षमता को बढ़ाता है। इससे उन्हें बढ़ने में मदद मिलती है और उनका टूटना कम होता है।

जैसे-जैसे लोगों की उम्र बढ़ती है, उनकी मांसपेशियों का द्रव्यमान और कार्यशीलता कम होने लगती है, जिससे चोट लगने का खतरा बढ़ जाता है। उम्र बढ़ने के साथ मांसपेशियों के नुकसान को कम करने और ताकत बनाए रखने के लिए नियमित शारीरिक गतिविधि करना आवश्यक है।

व्यायाम आपकी युवावस्था में हड्डियों के घनत्व को बढ़ाने में भी मदद करता है, साथ ही बाद के जीवन में ऑस्टियोपोरोसिस को रोकने में भी मदद करता है। कुछ शोध बताते हैं कि उच्च प्रभाव वाले व्यायाम (जैसे जिमनास्टिक या दौड़) या विषम प्रभाव वाले खेल (जैसे फुटबॉल और बास्केटबॉल) अस्थि घनत्व (bone density) को बढ़ाने में मदद करते हैं।

इस तरह शारीरिक गतिविधि आपकी मांसपेशियों और हड्डियों के निर्माण में मदद करती है। यह ऑस्टियोपोरोसिस को रोकने में भी मदद करती है। हालांकि इसके लिए आपको थोड़ी हार्ड एक्सरसाइज करनी होगी।

4. एनर्जी लेवल बढ़ता है

नियमित शारीरिक गतिविधि आपकी मांसपेशियों की ताकत में सुधार करती है और आपकी सहनशक्ति को बढ़ाती है। एक्सरसाइज आपके ऊतकों को ऑक्सीजन और पोषक तत्व भेजती है और आपके हार्ट सिस्टम को अधिक कुशलता से काम करने में मदद करती है।

जब आपके दिल और फेफड़ों की हैल्थ में सुधार होता है, तो आपके पास दैनिक काम निपटाने के लिए अधिक ऊर्जा होती है। शारीरिक गतिविधि कई अलग-अलग माध्यमों से आपकी ऊर्जा के स्तर को बढ़ाती है।

नियमित शारीरिक गतिविधि आपके शरीर में रक्त के प्रवाह को बढ़ाती है और आपकी हार्ट हैल्थ और फिटनेस में सुधार करती है। इससे शरीर को अधिक रक्त और ऑक्सीजन मिलेगी जिससे काम करने के लिए ऊर्जा मिलेगी।

नियमित शारीरिक गतिविधि से थायरॉयड-उत्तेजक हार्मोन, टेस्टोस्टेरोन, ह्यूमन ग्रोथ हार्मोन और कैटेकोलामाइन जैसे महत्वपूर्ण हार्मोन का उत्पादन भी बढ़ता है, ये सभी आपके चयापचय को बढ़ाने में मदद करते हैं और आपको अधिक ऊर्जा देते हैं।

रेगुलर फिजिकल एक्टिविटी फ्युल के लिए आपके शरीर की फैट और शुगर के भंडार का अधिक तेजी से उपयोग करती है। जो आपको ऊर्जा के लिए उन्हें जलाने की शक्ति देती है और ब्लड शुगर के स्तर को कंट्रोल करती है।

5. पुरानी बीमारी के खतरे को कम करती है

व्यायाम पुरानी बीमारी के जोखिम को कम करता है। शारीरिक गतिविधि पेट की चर्बी को खत्म करती है। यह चर्बी कैंसर, हार्ट रोग, डायबिटीज़ के खतरे को बढ़ा सकती है।

नियमित शारीरिक गतिविधि आपकी ओवरऑल हैल्थ, फिटनेस और जीवन की गुणवत्ता को बेहतर बनाने में मदद करती है। यह टाइप -2 डायबिटीज़, हार्ट रोग, कैंसर, डिप्रेशन, चिंता और मनोभ्रंश जैसी पुरानी बीमारियों के जोखिम को कम करने में मदद करती है।

शोध से पता चलता है कि शारीरिक निष्क्रियता (फिजिकल इनएक्टिविटी) भी स्वास्थ्य के लिए उतनी ही हानिकारक है, जितनी खराब आहार और धूम्रपान। ये तथ्य कुछ लोगों के लिए आश्चर्य की बात हो सकते हैं। लेकिन जब आप इसके बारे में सोचते हैं तो यह बिल्कुल भी आश्चर्य की बात नहीं है।

हमारा शरीर उपयोग के लिए ही बना है, और जीवन में किसी भी चीज़ की तरह आप इसका उपयोग करते हैं या इसे खो देते हैं। कार्डियोरेस्पिरेटरी फिटनेस (CRF) में सुधार के लिए एक्सरसाइज सबसे अच्छा तरीका है।

इसे अधिकतम ऑक्सीजन ग्रहण, VO2max में सुधार करके मापा जाता है। चयापचय सुधार की प्रत्येक इकाई के परिणामस्वरूप मृत्यु दर में 12% की कमी आती है। जब हम व्यायाम करते हैं, तो यह कार्डियक आउटपुट में सुधार करके ऑक्सीजन परिवहन करने की हमारी क्षमता में सुधार करता है।

इसके अलावा व्यायाम से माइटोकॉन्ड्रिया के घनत्व में वृद्धि होती है और ऊर्जा उत्पादन प्रदान करने में माइटोकॉन्ड्रियल की दक्षता में सुधार होता है। टाइप-2 डायबिटीज़ भी शारीरिक व्यायाम की कमी से जुड़ी हुई है।

6. स्किन को फायदा होता है

एक्सर्साइज़, स्क्वैट्स, दौड़ना और योग आपकी मांसपेशियों, हार्ट सिस्टम और मेंटल हैल्थ के लिए अद्भुत काम करते हैं। हालाँकि यह सारी मेहनत आपकी त्वचा के लिए भी अद्भुत काम करती है। रेगुलर स्किन केयर दिनचर्या के साथ एक्सरसाइज करने से आपकी त्वचा की प्राकृतिक चमक बनी रहती है।

एक्सरसाइज से आपका हृदय ब्लड पंप करता है, जिससे रक्त आगे प्रवाहित होता है। व्यायाम से पूरे शरीर में अधिक रक्त और ऑक्सीजन पहुंचाने के लिए आपका ब्लड सर्कुलेशन बढ़ता है। यह सारा अतिरिक्त रक्त आपकी त्वचा की कोशिकाओं को पोषण देता है, जिससे स्किन अच्छी होती है।

ब्लड फ्लो आपकी स्किन कोशिकाओं में सहायक पोषक तत्व लाता है, जो हानिकारक विषाक्त पदार्थों को भी हटा देता है। यहाँ आपका रक्तप्रवाह एक सुपरहाइवे के रूप में कार्य करता है। साथ ही, यह सारा कचरा और कूड़ा-कचरा बाहर निकालता है।

तनाव आपके शरीर को हर तरह का नुकसान पहुंचाता है। यह आपकी त्वचा के प्राकृतिक सुरक्षात्मक कार्य को बदल देता है, मुँहासे पैदा करता है और कुछ स्किन रोगों के जोखिम को बढ़ा सकता है।

व्यायाम अच्छा महसूस कराने वाले एंडोर्फिन हार्मोन रिलीज के कारण तनाव को प्रबंधित करने और कम करने में मदद करता है। एक्सरसाइज ब्लड शुगर और हाइ ब्लड प्रेशर को प्रबंधित करने में भी मदद कर सकता है, जो तनाव का कारण बन सकता है।

7. एक्सरसाइज दिमाग के लिए अच्छी है

चलना, जॉगिंग या गार्डनिंग जैसे एरोबिक व्यायाम आपके मस्तिष्क के हिप्पोकैम्पस (वह हिस्सा जो मेमोरी और सीखने से जुड़ा होता है) को बढ़ने में मदद करता है। यह आपके हिप्पोकैम्पस के सिकुड़न को भी धीमा करता है।

हिप्पोकैम्पस के सिकुड़न से आपकी उम्र बढ़ने के साथ याददाश्त कम होने लगती है। एरोबिक व्यायाम डिप्रेशन और चिंता के लक्षणों को इतनी अच्छी तरह से कम करता है कि ज़्यादातर डॉक्टर या चिकित्सक इसकी सलाह देते है।

ऐसा इसलिए हो सकता है क्योंकि व्यायाम मस्तिष्क कोशिकाओं की क्षति और टूटने को धीमा कर देता है। पूरा लाभ मिलने में कई महीने लग सकते हैं, इसलिए एक्टिव रहने की आदत बनाएं।

व्यायाम मस्तिष्क को कई तरह से प्रभावित करता है। यह हार्ट रेट को बढ़ाता है, जो मस्तिष्क में अधिक ऑक्सीजन पंप करता है। यह हार्मोन के स्राव में सहायता करता है जो मस्तिष्क कोशिकाओं की ग्रोथ के लिए एक उत्कृष्ट वातावरण प्रदान करता है।

व्यायाम मस्तिष्क के कई महत्वपूर्ण कॉर्टिकल क्षेत्रों में कोशिकाओं के बीच नए कनेक्शन के विकास को उत्तेजित करके मस्तिष्क की प्लास्टिसिटी को भी बढ़ावा देता है। एक शोध से यह भी पता चला है कि व्यायाम से मस्तिष्क में ग्रोथ फैक्टर बढ़ जाते हैं जिससे मस्तिष्क के लिए नए न्यूरोनल कनेक्शन विकसित करना आसान हो जाता है।

8. नींद अच्छी आती है

अध्ययनों से पता चला है कि एक्सरसाइज नींद से संबंधित समस्याओं को कम कर सकती है। इससे आपको पर्याप्त मात्रा में आराम करने में मदद मिलती है। हाल की रिसर्च से यह भी पता चलता है कि अपर्याप्त या खराब गुणवत्ता वाली नींद के कारण अगले दिन शारीरिक गतिविधि का स्तर कम हो सकता है।

इन कारणों से विशेषज्ञ आज मानते हैं कि नींद और व्यायाम का दोतरफा संबंध है। इसलिए रोजाना एक्सरसाइज करने से आपको बेहतर नींद में मदद मिलती है, और पर्याप्त मात्रा में नींद लेने से दिन के दौरान स्वस्थ शारीरिक गतिविधि के लेवल को बढ़ावा मिलता है।

व्यायाम करने से कई लोगों की नींद में भी सुधार होता है। मध्यम से जोरदार एक्सरसाइज वयस्कों के लिए अच्छी नींद में सहायता करती है। इसके अतिरिक्त शारीरिक गतिविधि दिन की नींद को कम करने में मदद करती है।

व्यायाम अप्रत्यक्ष तरीकों से भी नींद में सुधार करता है। उदाहरण के लिए, मध्यम से तीव्र शारीरिक गतिविधि वजन बढ़ने के जोखिम को कम करती है, जिसके परिणामस्वरूप उस व्यक्ति को ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया (OSA) के लक्षणों का अनुभव होने की संभावना कम हो जाती है।

9. दर्द कम करती है

किसी भी प्रकार का पुराना दर्द हमें बहुत परेशान करने वाला हो सकता है, लेकिन एक्सरसाइज इसे कम करने में मदद करती है। असल में कई वर्षों तक, पुराने दर्द के इलाज के लिए आराम और इनएक्टिव लाइफ की सिफारिश की गई थी।

हालाँकि हाल के अध्ययनों से पता चलता है कि एक्सरसाइज पुराने दर्द से राहत दिलाने में मदद करती है। वास्तव में कई अध्ययनों की एक समीक्षा में पाया गया कि एक्सरसाइज पुराने दर्द से पीड़ित लोगों को उनके दर्द को कम करने और उनके जीवन की गुणवत्ता में सुधार करने में मदद कर सकती है।

कई अध्ययनों से यह भी पता चलता है कि व्यायाम विभिन्न हैल्थ प्रोब्लम्स से जुड़े दर्द को नियंत्रित करने में मदद करता है, जिनमें क्रोनिक लो बैक पेन, फाइब्रोमायल्गिया और क्रोनिक सॉफ्ट टिश्यू शोल्डर डिसऑर्डर शामिल हैं।

इसके अतिरिक्त फिजिकल एक्टिविटी भी दर्द सहनशीलता को बढ़ाती है और दर्द की अनुभूति को कम करती है। व्यायाम विभिन्न स्थितियों से जुड़े दर्द पर अनुकूल प्रभाव डालता है। यह दर्द सहनशीलता को भी बढ़ाता है।

10. सेक्स लाइफ में सुधार होता है

चाहे इसका सीधा प्रभाव हो (हैलो, केगल्स) या इसके प्रभाव अधिक सूक्ष्म हों, नियमित एक्सरसाइज कई प्रकार से सेक्स लाइफ में सुधार करती है। हम जानते हैं कि व्यायाम तनाव ठीक करने में मदद करता है।

फिजिकल एक्टिविटी एंडोर्फिन का उत्पादन करती है। यह हार्मोन का एक समूह है, जो प्राकृतिक दर्द निवारक के रूप में कार्य करता है। इस हार्मोन ग्रुप की वजह से आप खुशी महसूस करते हैं। यदि आप अधिक खुश हैं, तो आपकी सेक्स ड्राइव को निश्चित रूप से लाभ होगा।

नियमित शारीरिक गतिविधि आपको अपने बारे में बेहतर महसूस कराती है, और इसका मतलब बेडरूम में बेहतर परफॉर्मेंस होता है। इसके अलावा जब आप व्यायाम करते हैं तो आपका हार्ट तेजी से सिकुड़ता है, जिससे आपके शरीर में रक्त के प्रवाह की दर बढ़ जाती है।

अच्छा ब्लड सर्कुलेशन संवेदना को बढ़ाने में मदद करता है जहां यह सबसे अधिक मायने रखता है। यदि आप पुरुष है, तो यह आपके स्तंभन दोष (ईडी) के जोखिम को भी कम कर सकता है।

यदि आप नियमित रूप से व्यायाम करते हैं, तो संभावना है कि आपके कोर, पेल्विक फ्लोर और पैर की मांसपेशियां गतिहीन रहने की तुलना में अधिक मजबूत होंगी। ये मांसपेशियाँ जितनी मजबूत होंगी (विशेष रूप से आपकी पेल्विक फ्लोर) उतनी ही तीव्र आपकी ओर्गास्म होती है।

जरुरत से ज्यादा एक्सरसाइज करने के नुकसान

ऐसे लोग हैं जिन्हें एक्सरसाइज करने की आवश्यकता है, और जिन्हें एक्सरसाइज से बहुत लाभ होता है। लेकिन व्यायाम का एक स्याह पक्ष भी है – खतरनाक नुकसान जो हर दिन हजारों लोगों को प्रभावित करते हैं।

1. एक्सरसाइज की लत लग जाती है

लगातार व्यायाम करने से शरीर में एंडोर्फिन का उत्पादन होता है, जो आपकी पिट्यूटरी ग्रंथि द्वारा स्रावित हार्मोन होते हैं। ये दर्द को रोकते हैं, चिंता को कम करते हैं और उत्साहपूर्ण खुशी की भावना पैदा करते हैं।

लेकिन एंडोर्फिन रासायनिक रूप से ड्रग मॉर्फिन के समान होते हैं। इसलिए कई लोगों के लिए व्यायाम मनोवैज्ञानिक रूप से नशे की लत होता है। रेगुलर एक्सरसाइज करने वालों के लिए अचानक एक्सरसाइज कम करना या बंद करना या यहां तक कि एक भी कसरत छोड़ने से डिप्रेशन, तनाव और चिंता हो सकती है।

इससे बचने के लिए प्रति सप्ताह कम से कम एक दिन ऐसा रखें, जिसमें आप व्यायाम न करें। यदि आपका व्यायाम कभी नौकरी जैसा लगने लगे, तो कुछ नया और ताजा कर लें।

2. इससे हार्ट पर इफेक्ट पड़ता है

वर्षों ताक भारी-भरकम वर्कआउट या एक्सरसाइज की टूट-फूट हृदय की मांसपेशियों को कमजोर कर सकती है। जिससे आप “वेंट्रिकुलर एरिथिमिया” नामक स्थिति में पहुंच सकते हैं जिसमें दिल अनियमित रूप से धड़कता है।

इसलिए अत्यधिक व्यायाम से बचें, विशेष रूप से उच्च तीव्रता और उच्च मात्रा वाले वर्कआउट के संयोजन से। बस हल्की-फुल्की एक्सरसाइज ही करें, ताकि आपके हार्ट पर ज्यादा दबाव न पड़ें।

इसके अलावा जब बार-बार हम एक्सरसाइज करते हैं, तो हमारा हार्ट तेजी से सिकुड़ता है। इससे कई बार हार्ट पंप करना बंद कर देता है, जिसके परिणामस्वरूप हार्ट अटैक का खतरा अधिक बढ़ जाता है।

3. एक्सरसाइज शारीरिक परशेपसन विकारों से जुड़ी है

बॉडी डिस्मॉर्फिक डिसऑर्डर एक मनोवैज्ञानिक विकार है जिसमें आप अपनी शारीरिक विशेषताओं में एक कथित दोष के बारे में अत्यधिक चिंतित रहते हैं, जैसे कि आपकी बांह या पैर की मांसपेशियां छोटी होना या आपकी कमर पतली नहीं होना।

इसके परिणामस्वरूप इसकी मरम्मत के लिए भारी, अक्सर सामाजिक रूप से अलग-थलग व्यायाम करना पड़ सकता है। आमतौर पर इस प्रकार की गतिविधि किशोरावस्था या प्रारंभिक वयस्कता में शुरू होती है।

4. इंजरी का खतरा बढ़ जाता है

एक्सरसाइज करने से, विशेष रूप से उच्च प्रभाव वाली गतिविधियों या अनुचित तरीके से, चोटों का खतरा बढ़ सकता है। मोच, खिंचाव, फ्रैक्चर और जोड़ों की समस्याएं व्यायाम से संबंधित सामान्य चोटें हैं।

जोखिम को कम करने के लिए पर्याप्त रूप से गर्म होना, उचित उपकरणों का उपयोग करना और किसी प्रॉफेश्नल व्यक्ति से मार्गदर्शन लेना महत्वपूर्ण है। इससे आपको इंजरी होने का खतरा कम हो जाएगा।

5. ओवरट्रेनिंग और बर्नआउट

पर्याप्त आराम और रिकवरी के बिना अत्यधिक एक्सरसाइज से ओवरट्रेनिंग और बर्नआउट हो सकता है। आराम किए बिना अपने शरीर को उसकी बाउंड्री से परे धकेलने से परफॉर्मेंस में कमी, थकान, हार्मोनल असंतुलन और चोटों और बीमारियों की संभावना बढ़ जाती है।

इसके अलावा रेगुलर एक्सरसाइज रूटीन को बनाए रखने के लिए महत्वपूर्ण समय प्रतिबद्धता की आवश्यकता होती है। काम, निजी जीवन और व्यायाम के बीच संतुलन बनाना चुनौतीपूर्ण हो सकता है, खासकर व्यस्त कार्यक्रम वाले व्यक्तियों के लिए।

एक्सरसाइज करने के अन्य नुकसान-

  • चोटें तब लगती हैं जब शरीर के किसी विशेष हिस्से पर बार-बार जोर डाला जाता है, जिससे सूजन, दर्द और अंततः चोट लग जाती है। इस प्रकार की चोटें एथलीटों और उन लोगों में आम हैं जो व्यायाम के दौरान दोहराव वाली हरकतें करते हैं।
  • एक्सरसाइज से गिरने, मोच आने जैसी दुर्घटनाएँ भी हो सकती हैं, जिसके परिणामस्वरूप चोट लग जाती है और चिकित्सा उपचार की आवश्यकता हो सकती है।
  • कई लोगों को नियमित व्यायाम के लिए समय निकालना मुश्किल लगता है, खासकर यदि उनके पास काम या परिवार का कार्यक्रम व्यस्त हो।
  • ओवरट्रेनिंग तब हो सकती है जब कोई व्यक्ति बहुत अधिक व्यायाम करता है, जिससे शारीरिक और मानसिक थकान होती है और अंततः बर्नआउट हो जाता है।
  • जिम करने या कसरत उपकरण खरीदना महंगा होता है, जिससे कुछ व्यक्तियों के लिए व्यायाम की दिनचर्या बनाए रखना मुश्किल हो जाता है।
  • एक्सरसाइज के दौरान लगने वाली चोटों के लिए चिकित्सा उपचार की आवश्यकता हो सकती है, जिससे किसी व्यक्ति की एक्सरसाइज में एक्सट्रा खर्चा जुड़ जाता है।

इनको भी जरूर पढ़े:

निष्कर्ष:

तो ये था आज का आर्टिकल, यदि पोस्ट अच्छी लगी तो इसे शेयर जरूर करें और हमारी साइट के दूसरे आर्टिकल को भी जरूर पढ़े। इसके अलावा यदि आपके मन में इस पोस्ट से रिलेटेड कोई भी सवाल है तो उन्हें कमेंट में हमसे जरूर पूछे।