छोटे बच्चों की हाइट जल्दी कैसे बढ़ाएं 11 आसान तरीके

आज के समय में बच्चों की हाइट को लेकर माता-पिता काफी परेशान रहते हैं। कद छोटे होने के कारण हर बच्चे में अलग-अलग होते हैं। कभी-कभी यह एक चिकित्सीय कारण होता है। कभी-कभी बस थोड़ी देरी होती है, जो बाद में वहाँ तक पहुँच जाता है।

छोटे कद का उपचार कारण पर निर्भर करता है। कभी-कभी अंतर्निहित स्थिति (जैसे कुपोषण) का इलाज करने से नॉर्मल ग्रोथ दर हो सकती है। अगर यह कुपोषण के कारण होता है, तो हम आम तौर पर पोषण में सुधार करने की कोशिश करते हैं।

छोटे कद का मतलब है कि एक बच्चा उसी उम्र और लिंग के अन्य बच्चों की तुलना में 95% से 97% तक छोटा है। यदि आपका बच्चा सामान्य दर से बढ़ रहा है, तो यह चिंता का विषय नहीं है। अधिकांश बच्चे जिनका कद छोटा है लेकिन ग्रोथ रेट सामान्य है, तो उनमें कोई चिकित्सीय समस्या नहीं दिखती है।

हो सकता है कि उनके माता-पिता छोटे कद के हों और उन्हें यह गुण विरासत में मिला हो। हम इसे “पारिवारिक” छोटा कद कहते हैं। हालाँकि छोटे कद वाले कुछ बच्चे एक वर्ष के दौरान औसत से कम ग्रोथ दिखाते हैं।

जैसे-जैसे उनकी उम्र बढ़ती है, वे अपनी उम्र के अन्य बच्चों से पीछे रह जाते हैं। यह ग्रोथ संबंधी समस्या का संकेत होता है। ग्रोथ डिसोर्डर अक्सर अन्य हैल्थ प्रोब्लम्स के परिणामस्वरूप होते हैं। इनमें से कई स्थितियों का इलाज हो सकता हैं ताकि आपके बच्चे की हाइट नॉर्मल हो सके।

बच्चों का कद छोटा क्यों रहता है?

बच्चों की हाइट या कद छोटा रहने के कई कारण है। जिनको आप इस तरह से समझ सकते हैं-

a) आनुवंशिकी

जब किसी बच्चे के माता-पिता और दादा-दादी छोटे कद के हों, तो बच्चा भी छोटा होता है; इसे पारिवारिक छोटे कद के रूप में जाना जाता है। इसके अलावा कुछ बच्चे उम्मीद के मुताबिक लंबे नहीं हो पाते हैं।

b) आनुवंशिक स्थितियाँ

कई आनुवंशिक सिंड्रोम छोटे कद का कारण बन सकते हैं, जिनमें प्रेडर-विली सिंड्रोम, टर्नर सिंड्रोम और नूनन सिंड्रोम शामिल हैं। अगर बच्चे में ये जेनेटिक्स कंडीशन आती है, तो उनकी हाइट नॉर्मल से कम रह जाती है।

c) पुराने रोग

ग्रोथ हार्मोन मस्तिष्क के मध्य में स्थित पिट्यूटरी ग्रंथि द्वारा निर्मित होता है। इसलिए पिट्यूटरी ग्रंथि को प्रभावित करने वाली पुरानी चिकित्सा समस्याएं भी ग्रोथ को प्रभावित कर सकती हैं।

उदाहरण के लिए मस्तिष्क में रेडियशन पिट्यूटरी फ़ंक्शन को प्रभावित कर सकता है, इसलिए बाल कैंसर या इसके उपचार से छोटा कद हो सकता है। गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल रोग जो पोषण को ख़राब करते हैं, जैसे सूजन आंत्र रोग और सीलिएक ग्रोथ को प्रभावित कर सकते हैं।

कई अन्य स्थितियां भी ग्रोथ रेट में देरी कर सकती हैं, जिनमें हाइपोथायरायडिज्म, हार्ट रोग, गुर्दे की बीमारी, immunological रोग और कई अन्य अंतःस्रावी विकार शामिल हैं। अगर ये रोग बच्चे में होंगे तो उसकी हाइट कम रहना निश्चित है।

d) ग्रोथ हार्मोन की कमी

कुछ बच्चे पर्याप्त ग्रोथ हार्मोन का उत्पादन नहीं कर पाते हैं, जिनमें खराब विकसित पिट्यूटरी ग्रंथि के साथ पैदा हुए बच्चे भी शामिल हैं। ग्रोथ हार्मोन की कमी की वजह से बच्चों की हाइट कम रहना एक सामान्य बात है।

e) कुपोषण

पर्याप्त भोजन न मिलना, खान-पान संबंधी विकार या अंतर्निहित स्थिति जो भूख को प्रभावित करता है। इन सभी से होने वाली पोषण की कमी ग्रोथ में देरी का एक सामान्य कारण है। इसलिए बच्चों को पोषण से भरपूर भोजन देना बहुत जरूरी है, ताकि उनकी ग्रोथ रेट बनी रहे।

छोटे बच्चों की हाइट कैसे बढ़ाएं 11 आसान तरीके

bacho ki height kaise badhaye

सभी माता-पिता अपने बच्चों को लंबा और मजबूत देखना पसंद करते हैं। क्योंकि इसे व्यापक रूप से अच्छी हैल्थ का संकेत माना जाता है। माता-पिता आमतौर पर यह प्रयास करते हैं कि उनके बच्चे स्वस्थ रूप से बड़े हों और उनकी हाइट को इसका प्रतीक माना जाता है।

बच्चे की हाइट निर्धारित करने में जीन का सबसे अधिक योगदान होता है। हालाँकि यह एकमात्र कारक नहीं है जो इसे प्रभावित करता है। कई बाहरी कारक, जैसे रहने की स्थिति और स्वस्थ आहार, बच्चों की लंबाई को काफी प्रभावित कर सकते हैं।

इसलिए माता-पिता के लिए सरल तरीकों से अपने बच्चों की हाइट बढ़ाना संभव है। कई माता-पिता “बच्चों की हाइट कैसे बढ़ाएं” का उत्तर खोजने के लिए इंटरनेट पर लगातार सर्च करते हैं।

बच्चों की लंबाई बढ़ाने के आसान तरीके ये हैं। ऐसे कई तरीके हैं जिनसे माता-पिता अपने बच्चे की हाइट को प्रभावित कर सकते हैं, और यहां टॉप तरीकों की सूची दी गई है।

1. संतुलित आहार

अपने बच्चे की हाइट कैसे बढ़ाएं? इसका सबसे महत्वपूर्ण पहलू यह सुनिश्चित करना है कि उसे उचित पोषण मिले। वह जो खाना खाता है वह स्वास्थ्यवर्धक यानी हैल्थी होना चाहिए ताकि वह बड़ा होकर लंबा हो सके।

एक संतुलित आहार में प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, फैट और विटामिन को सही अनुपात में शामिल करना होता है। इनमें से केवल एक का सेवन हानिकारक प्रभाव डाल सकता है। आपको यह भी ध्यान रखना चाहिए कि बच्चा ज्यादातर जंक फूड से दूर रहे।

जंग फूड में बर्गर, कोल्ड ड्रिंक और सामान्य रूप से तली हुई चीजें जैसे भोजन शामिल हैं। पत्तेदार सब्जियों, कैल्शियम और पोटेशियम जैसे मिनरल्स से भरपूर चीजों के साथ-साथ लीन प्रोटीन भी भरपूर मात्रा में खाना चाहिए।

इसके लिए पिज़्ज़ा और केक जैसे साधारण कार्ब्स से परहेज करना पड़ता है। यह पाया गया है कि जिंक का बच्चे के विकास पर बहुत अधिक प्रभाव पड़ता है, इसलिए स्क्वैश बीज और मूंगफली जैसे जिंक युक्त खाद्य पदार्थों को भी उनके आहार में शामिल करना चाहिए।

संतुलित आहार न केवल आपके बच्चे की हाइट बढ़ाने के लिए सही पोषक तत्व प्रदान करता है बल्कि यह उसे हर मायने में मजबूत भी बनाएगा। भविष्य में यह आपके बच्चे को स्वस्थ भी रखेगा।

2. स्ट्रेचिंग एक्सर्साइज़

स्ट्रेचिंग एक्सर्साइज़ भले ही आसान हों, लेकिन आपके बच्चे की हाइट पर भारी प्रभाव डालती हैं। अपने बच्चे को छोटी उम्र से ही स्ट्रेचिंग एक्सर्साइज़ से परिचित कराने से हाइट बढ़ने की प्रक्रिया आसान हो जाएगी।

स्ट्रेचिंग से रीढ़ की हड्डी को लंबा करने में मदद मिलती है और आपके बच्चे की हर मुद्रा में भी सुधार होता है। यह एक्सर्साइज़ काफी सरल हैं। इसके लिए अपने पैर की उंगलियों के बल दीवार से सटाकर खड़ा करें और साथ ही ऊपर पहुंचते हुए पैर की मांसपेशियों को फैलाएं।

स्ट्रेचिंग के लिए एक और सरल व्यायाम में बच्चे को अपने पैरों को चौड़ा करके फर्श पर बैठना और अपनी बाहों से दोनों पैरों के पंजों को छूना शामिल है। यह काफी आसान है, जिनसे आपके बच्चे की हाइट बढ़ सकती है।

3. हैंगिग या लटकना

जो माता-पिता चाहते हैं कि उनके बच्चे लम्बे हों, उनके लिए दशकों से लटकने की सिफ़ारिश की जाती रही है। किसी चीज से लटकने से रीढ़ की हड्डी को लम्बा करने में मदद मिलती है, जो लम्बे होने का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है।

आप अपने बच्चे को नियमित रूप से लटकने के अलावा पुल-अप्स और चिन-अप्स करने के लिए भी प्रोत्साहित कर सकते हैं। यह दोनों हाथ और पीठ की मांसपेशियों को मजबूत बनाते हैं और उसे फिट रखने में मदद करने के लिए बेहतरीन व्यायाम हैं।

4. योग करना

योग के सदियों पुराने अभ्यास में बहुत अधिक खिंचाव और संतुलन शामिल है, इसलिए बच्चों को लंबा करना उनके लिए आदर्श है। कुछ योग आसन आपके बच्चे को लंबा करने में मदद करने के लिए विशेष रूप से फायदेमंद होते हैं।

‘सूर्य नमस्कार’ पूरे शरीर को काम करने के लिए प्रेरित करता है। यह हाथ, पीठ और यहां तक कि पैरों की मांसपेशियों को एक ही तरल गति में खींचता है। एक अन्य लाभकारी आसन चक्रासन है, जिसमें आपके बच्चे को पीठ के बल लिटाया जाता है।

फिर उसे यू-आकार बनाए रखने के लिए अपनी पीठ को ऊपर की ओर झुकाना होगा और अपने हाथों और पैरों का उपयोग करके अपने शरीर को ऊपर उठाना होगा। अधिक लाभ प्राप्त करने के लिए इसे लंबे समय तक बनाए रखने का प्रयास करें।

5. स्किपिंग

स्किपिंग जैसे कुछ एक्सर्साइज़ हैं जो पूरे शरीर को काम करने में मदद करते हैं। यह हार्ट पर अपने अद्भुत प्रभाव के लिए जाना जाता है, यदि आप चाहते हैं कि आपका बच्चा लंबा हो तो यह एक बेहतरीन एक्सर्साइज़ है।

जब कोई व्यक्ति स्किप करता है तो शरीर पूरी तरह से खिंचता है, इसलिए यह बच्चे में ऊर्ध्वाधर ग्रोथ को बढ़ाता है। यह एक अद्भुत कार्डियो वर्कआउट भी है, और निश्चित रूप से बच्चे को फिट और एक्टिव रखेगा।

6. तैराकी (स्विमिंग)

तैराकी एक और स्वस्थ आदत है, जो आपके बच्चे को एक्टिव रहने और इसका आनंद लेने में मदद करती है। स्विमिंग एक फुल्ल-बॉडी एक्सर्साइज़ है, जिसका अर्थ है कि यह शरीर की सभी मांसपेशियों पर बहुत प्रभाव डालती है।

लंबे समय तक तैरने से आपके बच्चे को अतिरिक्त फैट खोने में मदद मिलती है, जिससे वह अच्छे से स्वस्थ हो जाता है। इसमें बहुत अधिक आगे की ओर खिंचाव शामिल होता है, जो रीढ़ को मजबूत करता है और लंबे, स्वस्थ शरीर के लिए आधार तैयार करता है।

तैरना भी एक अत्यधिक आनंददायक एक्टिविटी है। इसलिए किसी भी बच्चे ने कभी पानी में खेलने से मना नहीं किया है। पानी में खेलना हमेशा बच्चों को अच्छा लगता है, जो उनकी हाइट बढ़ाने में भी सहायता करता है।

7. जॉगिंग

जॉगिंग एक अद्भुत एक्सर्साइज़ है। न केवल बच्चों के लिए, बल्कि बड़ों के लिए भी इसके कई फायदे हैं। जॉगिंग से पैर की हड्डियाँ मजबूत होती हैं और ग्रोथ हार्मोन HGH की मात्रा भी बढ़ती है, जो शरीर में किसी भी ग्रोथ के लिए आवश्यक होता है।

इसे और भी मज़ेदार बनाने के लिए, आप शायद अपने बच्चे के साथ इसे कर सकते हैं। इस कारण से जॉगिंग एक ऐसी गतिविधि हैं जिसे आप अपने बच्चे के साथ में कर सकते हैं। जॉगिंग बहुत ही आसान एक्सर्साइज़ है, जिसको करने के लिए ज्यादा मेहनत नहीं करनी पड़ती है।

8. अच्छी नींद

नींद के महत्व पर कभी भी पर्याप्त जोर नहीं दिया जाता है, न केवल बच्चों के लिए, बल्कि वयस्कों के लिए भी। कभी-कभी नींद पूरी न होने से लंबे समय तक आपके बच्चे की ग्रोथ पर कोई असर नहीं पड़ता है।

हालांकि आपको ध्यान रखना होगा कि बच्चे को ज्यादातर रात में 8 घंटे की अच्छी नींद मिले, ताकि वह लंबा और मजबूत हो सके। ऐसा इसलिए है क्योंकि बच्चों में ग्रोथ हार्मोन HGH तभी रिलीज़ होता है जब बच्चा सोता है।

यह आपके बच्चे को लंबा बनाने में प्रत्यक्ष भूमिका निभाता है, इसलिए लगातार नींद पूरी न करना निश्चित रूप से एक बुरा विचार है। अच्छी नींद से बच्चे का दिमाग भी फ्रेश होता है, जिससे उन्हें अच्छी भूख लगती है।

9. आसन (पोस्चर)

आपके बच्चे की लंबाई बढ़ाने के लिए यह जरूरी है कि उसका पोस्चर सही हो। झुकने से रीढ़ की हड्डी पर अनावश्यक तनाव पड़ता है जिससे शरीर पर कई नकारात्मक प्रभाव पड़ते हैं। इसके अतिरिक्त खराब मुद्रा आपके बच्चे की रीढ़ की हड्डी के आकार को बदल सकती है जिससे उसकी ग्रोथ पर असर पड़ सकता है।

ध्यान रखें कि आपका बच्चा न केवल अपनी हाइट बढ़ाने के लिए बल्कि किसी भी हैल्थ प्रॉबलम से लड़ने के लिए अच्छी मुद्रा अपनाए। जब भी आप उसे झुकते हुए देखें तो उसे बैठने और सीधे खड़े होने की याद दिलाएँ।

10. सूरज की रोशनी

सूरज की रोशनी विटामिन D का एक बड़ा स्रोत है। विटामिन D मांसपेशियों और हड्डियों के विकास में मदद करता है जो आपके बच्चे की हाइट बढ़ाने में मदद करेगा। विटामिन D आपके शरीर को आपके आहार से कैल्शियम को अवशोषित करने में भी मदद करता है।

यह आपकी हड्डियों को मजबूत बनाने में मदद करता है। इसलिए अपने बच्चे को वीडियो गेम छोड़कर धूप में बाहर जाकर खेलने के लिए प्रोत्साहित करें। अधिक गर्मी के दौरान अपने बच्चे को घर के अंदर रखना याद रखें और उसकी त्वचा को सूरज की हानिकारक यूवी किरणों से बचाने के लिए उसे सनस्क्रीन पहनाएं।

विटामिन D के अन्य स्रोतों में वसायुक्त मछली और समुद्री भोजन, मशरूम और अंडे की जर्दी शामिल हैं। सूरज की रोशनी में खेलने से बच्चे को अधिक भूख लगती है, जिस कारण वह अधिक पौष्टिक भोजन करता है।

11. साइकिल चलाना

साइकिल चलाते समय आपको काफी मेहनत करनी पड़ती है। इससे पैरों की हड्डियां मजबूत होती हैं और पैरों की मांसपेशियां खिंचती हैं। पैरों की यह गति हाइट में वृद्धि की शुरुआत करती है।

इसलिए आपको अपने बच्चे को रोजाना कम से कम आधे घंटे साइकिलिंग करने के लिए मोटिवेट करना चाहिए। आपके बच्चे की हाइट बढ़ाने के कई तरीके हैं, लेकिन वे सभी तभी काम करते हैं जब आप इन सभी तरीकों का संतुलन के साथ प्रयोग करते हैं।

अच्छे आहार के साथ नियमित एक्सर्साइज़ और अच्छी नींद भी जरूरी है, नहीं तो आपको वह नहीं मिल पाएगा जो आप चाहते हैं। इसलिए अपने बच्चे की सही तरीके से देखभाल करें और उसे लंबा और मजबूत बनाएं।

बच्चे की हाइट बढ़ाने के लिए बेस्ट फूड्स

यहां कुछ पोषक तत्व हैं जो हाइट बढ़ाने में मदद करते हैं

  • प्रोटीन
  • कार्बोहाइड्रेट
  • मिनरल्स
  • विटामिन

यहां 5 फूड्स की लिस्ट दी गई है जिनका सेवन आपके बच्चे को हाइट बढ़ाने के लिए रोजाना करना चाहिए। आइए देखते हैं, बच्चे की हाइट बढ़ाने के लिए बेस्ट फूड्स कौनसे हैं-

1. दूध

दूध सबसे पौष्टिक खाद्य पदार्थों में से एक है जिसकी आपके बच्चों को अच्छी तरह से विकसित होने के लिए आवश्यकता होती है। इसमें कुछ सबसे आवश्यक पोषक तत्व शामिल हैं जो आपके बच्चे की तेजी से हाइट बढ़ाने में मदद करेंगे।

इतना ही नहीं यह आपके बच्चे की हड्डियों के विकास के साथ-साथ उनकी मांसपेशियों को मजबूत और तेज बनाने में भी मदद करेगा।

2 अंडे

क्या आपको वह पुराना वाक्यांश याद है, “संडे हो या मंडे, रोज़ खाओ अंडे”? खैर यह सिर्फ आपके लिए ही नहीं, बल्कि आपके बच्चे के लिए भी सच है। अंडे प्रोटीन, कैल्शियम, विटामिन B12 और राइबोफ्लेविन से भरपूर होते हैं।

इनमें से कुछ पोषक तत्व अन्य खाद्य स्रोतों में मिलना वास्तव में कठिन हैं। सबसे अच्छी बात यह है कि अंडे सबसे बहुमुखी खाद्य पदार्थों में से एक हैं, और आप उन्हें अनगिनत तरीकों से बना सकते हैं!

3. सोया

सोया प्रोटीन, फाइबर और विटामिन का एक और अच्छा स्रोत है। साथ ही अगर आप शाकाहारी हैं तो यह अंडे का सबसे अच्छा विकल्प है। प्रोटीन, फोलेट, कार्ब्स, फाइबर और विटामिन से भरपूर होने के कारण सोयाबीन हाइट बढ़ाने में काफी मदद करती है।

सोया चंक्स, सोया आटा, टोफू और सोया मिल्क जैसे खाद्य पदार्थ प्रोटीन के अच्छे स्रोत हैं। सभी सोया उत्पादों में कैल्शियम की मात्रा अधिक होती है और ये हड्डियों को बेहतर बनाने में मदद करते हैं। इनमें फोलेट, विटामिन, कार्ब्स और फाइबर भी होता है।

4. केले

हम हमेशा इस साधारण फल की ताकत को कम आंकते हैं, लेकिन यह एक ऐसा फूड है जिसकी आपके बच्चे को सबसे ज्यादा जरूरत है। यदि वह इसे पूरा खाने से इनकार करता है, तो आप उसे एक गिलास केले की स्मूदी या शेक बनाकर दे सकते हैं।

इस तरह उन्हें दूध और केला दोनों बिना किसी परेशानी के दिया जा सकता है। केला एक तरह से साल भर मिलने वाला फल है। यह पोटेशियम, मैंगनीज, कैल्शियम, घुलनशील फाइबर, विटामिन B6, C, A और स्वस्थ प्रीबायोटिक्स जैसे कई आवश्यक पोषक तत्वों से भरपूर है।

जब आपके बच्चे की हाइट बढ़ाने के लिए संतुलित आहार चुनने की बात आती है तो यह एक ऐसा भोजन है जिसे आप नजरअंदाज नहीं कर सकते। आपके बच्चे की हाइट बढ़ाने के लिए केला सबसे महत्वपूर्ण फल है।

5. ड्राइ फ्रूट्स

जब बच्चे बड़े हो रहे होते हैं, तो उन्हें ऊर्जा और पोषण दोनों की आवश्यकता होती है। सूखे मेवों से बेहतर क्या हो सकता है जो हर तरह से असरदार हो? ये मिनरल्स, अच्छी फैट और अमीनो एसिड का एक समृद्ध स्रोत हैं।

ये सभी आपके बच्चे को बढ़ने में मदद करने के लिए आवश्यक हैं। ड्राइ फ्रूट्स में आप काजू, बादाम, किशमिश, पिस्ता आदि अपने बच्चे को दे सकते हैं। ये पोषण का पावरहाउस है।

कुछ फूड्स जो बच्चे की हाइट बढ़ने में रुकावट पैदा करते हैं-

  • कार्बोनेटेड ड्रिंक्स
  • रिफाइंड कार्ब्स कभी-कभार ठीक रहता है, लेकिन नियमित आधार पर नहीं
  • चॉकलेट, कैंडीज, आइसक्रीम आदि जैसे मीठे व्यंजन।
  • पैक और जमे हुए भोजन
  • अनहैल्थी फैट जैसे नमकीन मक्खन, मेयोनेज़, आदि। इसके बजाय आप बादाम का मक्खन या पीनट बटर भी ले सकते हैं।

इन्हे भी जरूर पढ़े:

निष्कर्ष:

हम आशा करते है की इस लेख को पूरा पढ़ने के बाद आपको छोटे बच्चों की जल्दी हाइट बढ़ने के तरीके पता चल गए होंगे।

यदि आपको ये आर्टिकल अच्छी लगी तो इसे शेयर जरूर करें और यदि आपके पास और कोई उपाय व तरीके है तो उन्हें कमेंट में हमें जरूर बताएं।