50+ लड़की को प्रपोज करने वाली शायरी | Best Girl Propose Shayari in Hindi

आज के इस आर्टिकल में हम आपके साथ अपनी मनपसंद लड़की को प्रपोज करने की बेहतरीन शायरी का कलेक्शन शेयर करने वाले है जिसको पढ़कर किसी भी लड़की का दिल पिघल जायेगा और वो आपके प्यार में दीवानी हो जाएगी।

ये सभी शायरी इतनी अच्छी और दिल को छू जाने वाली है की यदि किसी लड़की ने इसको पढ़ा तो उसके दिल में आपके लिए एक स्पेशल जगह बन जाएगी। तो फिर चलिए बिना अधिक समय लेते हुए सीधे आर्टिकल को पढ़ना शुरू करते है। 

लड़की को प्रपोज करने वाली शायरी

ladki ko propose karne wali shayari

1.
तेरी खूबसूरत आंखों का दीदार करना चाहता हूं मैं
और किसी का होकर नहीं रहना चाहता हूं मैं
तेरी पनाहों में गुजार दूंगा अपनी सारी जिंदगी में
बस तुझे ही अपने दिल से लगा कर रखना चाहता हूं मैं

2
मैंने कभी कोई तुमसे ज्यादा खूबसूरत नहीं देखा
मैंने कभी कोई तुमसे ज्यादा हंसी नहीं देखा
जब से देखा है मैंने तुम्हें
तब से फिर मैंने कोई और नहीं देखा

3
सिर्फ तुम्हें ही देखना चाहता हूं मैं
तुम से ही हर दफा मिलना चाहता हूं मैं
तुम मेरी सांसो में इस तरह से बस रही हो
कि तुम्हारे साथ अब जिंदगी बिताना चाहता हूं मैं

4
तेरी खूबसूरती सबसे अलग है
और यह मोहब्बत भी सिर्फ तुझसे ही है
तेरे अलावा इस दुनिया में और कोई नहीं है मेरा
मैं सिर्फ तेरा हूं यही चाहते मेरी तुजसे है

5
तेरी चाहत को मैंने अपना बना लिया
जब से तुझे देखा मैंने खुद को तेरा बना लिया
मैं सिर्फ और सिर्फ तुझसे ही करता हूं प्यार
यार मैंने जब से चाहा है तुझे
तब से मैंने तुझे अपना हमसफर बना लिया

6
जब जब मैं तुझे देखता हूं मुझे एक ही ख्याल आता है
तो मुझे पहले क्यों नहीं मिली यही सवाल आता है
तू इतनी खूबसूरत है कि मैं क्या कहूं
तेरी आंखों में तो सारा हसीन लमहा समा जाता है

7
तेरे साथ गुजारे हुए हसीन पल मुझे याद आते हैं
मैं सिर्फ तेरे साथ ही अपना हर लम्हा गुजारना चाहता हूं
तुझसे ही करता हूं मोहब्बत
में सिर्फ तेरा ही होकर रहना चाहता हूं

8
कोई और किसी का नहीं होता
पर मैं तेरा साथ मरते दम तक निभाऊंगा
तेरी खूबसूरती की तारीफ तो करता ही हूं मैं हरदम
पर जब तू बूढ़ी हो जाएगी तब भी मैं तुझसे मोहब्बत ऐसे ही करता जाऊंगा।।

9
मोहब्बत कभी ऊंच-नीच नहीं देखती
मोहब्बत कभी भी जात पात नहीं देखती
पर तेरी खूबसूरती की कोई मिसाल नहीं है
क्युकी तेरा जैसा कोई और दूसरा नहीं है

10
तुझे अपना कोई भी कह सकता है
तेरे प्यार में कोई भी पड़ सकता है
पर जिस तरह से हम तुझे चाहते हैं
उस तरह से तुझे कोई मोहब्बत नहीं कर सकता है

11
हमसे ज्यादा तुम्हें और कोई मोहब्बत नहीं कर पाएगा
हमसे ज्यादा तुम्हें और कोई नहीं चाह पाएगा
तेरी खूबसूरती के कायल हो चुके हैं हम
तुझे देखे बिना अब हमार को चैन नहीं आएगा

12
जब से तुझे देखा है मैं सब कुछ भूल चुका हूं
मैं अपने आप को भी भूल चुका हूं
मैंने सिर्फ तुझे ही चाहा है हरदम
मैं अपनी जिंदगी को सिर्फ और सिर्फ तेरे हवाले कर चुका हूं

13
यह सफर इतना आसान हो जाता है
जब जब तेरी आंखों में देखो मुझे सारा जहान याद हो जाता है मैं सिर्फ तुमसे ही करता हूं मोहब्बत और खुदा से फरियाद
यही अब मेरा हर रोज सुबह उठकर काम हो जाता है

14
जब से तुझे देखा है मैंने तुझे पाने की हसरत दिल में लगी है
तेरे लिए मंदिर चाहता हूं व्रत रखता हूं
तुझे अपना बनाने की दिल में एक तलब मची है
मैं सिर्फ तेरे साथ ही गुजारना चाहता हूं अब बची हुई जिंदगी मुझे तुझे अपने जीवन में लाने की चाहत बची है

15
मैं सिर्फ तेरे साथ ही लम्हे वह गुजारना चाहता हूं
मैं तेरे साथ ही मोहब्बत निभाना चाहता हूं
मैं और किसी को नहीं जानता
मैं सिर्फ और सिर्फ तुझे हर रिश्ता निभाना चाहता हूं

16
मैं कभी किसी से कुछ कहता नहीं हूं
पर मैंने दिल में तेरे लिए बहुत जज्बात छुपाए हुए हैं
मैं तुझसे करता हूं मोहब्बतें मैं तुझे बताता नहीं हूं
पर मैंने तेरे लिए बहुत से बात लिख कर अपनी डायरी में छुपाए हुए है

17
तेरी जज्बात मैं अपने दिल में रखता हूं
मैं सिर्फ और सिर्फ तेरी ही मोहब्बत अपने पास रखता हूं
तेरी खूबसूरती की तो क्या तारीफ करूं मैं
अपनी शायरियों में सिर्फ तुझे ही लिखता हूं मैं

18
मैंने तुझसे मोहब्बत करना बंद कर दिया है
पर फिर भी मैंने तेरी याद को अपने दिल में बसा रखा है
कहीं ना कहीं में अब तक तुझे चाहता हूं
क्योंकि मैंने तेरी तस्वीर को अब अपने दिल में छुपाए रखा है

19
मैं तुझे सीने से लगा कर रखना चाहता हूं
मैं तेरी मोहब्बत ने अपना सब कुछ भुला देना चाहता हूं
जब से मिला है तू मुझे
मैं तेरी खूबसूरती को दिन-रात निहारना चाहता हूं।।

20
तेरी चाहत को ही मैं अपना सब कुछ मानता हूं
अगर तू नहीं है मेरे पास तो मैं इस जहां को वीरान मानता हूं
तेरी हर एक अदा को मैं अपना खुदा मानता हूं
जब जब तुम मेरे पास होती है मैं तुझे अपनी जान मानता हूं

21
मेरी जान मेरा दिल मेरी हर धड़कन बन चुकी है तू
मेरी जिंदगी का अटूट हिस्सा बन चुकी है तु
तुझे छोड़ने का दिल ही नहीं करता
मेरी जिंदगी का कोई सहारा बन चुकी है तू

22
खूबसूरती से तेरे जिस्म की ही नहीं
मैं तेरे दिल की भी तारीफ करता हूं
मैंने तेरी जैसी लड़की आज तक नहीं देखी
इसीलिए मैं सिर्फ तुझसे मोहब्बत करता हूं

23
जो मोहब्बत तुझसे है वह तुझसे ही रहेगी
तेरे अलावा और किसी से मुझे कभी मोहब्बत नहीं होगी
मैं तुमसे वादा करता हूं तेरा साथ निभाऊंगा मरते दम तक
कभी मुझे तेरे प्यार की कमी महसूस नहीं होगी

24
एक बार जो वादा करते हैं हम तो उसे मरते दम तक निभाते हैं हम जिस से मोहब्बत रखते हैं उस पर अपना सब कुछ लुटाते हैं पर तुम्हें भी मेरा ख्याल थोड़ा सा तो रखना होगा
अपनी मोहब्बत में से कुछ ऐसा मुझे भी देना होगा

25
मोहब्बत ऐसी ही होती है किसी को मिल जाती है
तो किसी को नहीं मिलती है
पर लोग भी भी नहीं होते हैं एक दूसरे के यहां पर
हर एक के पास अपनी अपनी तकदीर होती है

26
मोहब्बत मोहब्बत करते करते मैंने अपना सब कुछ लुटा दिया मैंने तेरे ऊपर अपना सब कुछ न्यौछावर कर दिया
तेरी चाहत को दिल में ऐसे बस आए रखा मैंने
जैसे किसी मां ने अपने बच्चे को छुपा कर रख लिया

27
अब तेरी चाहत तू ही मैं अपना समझता हूं
मुझे किसी बात का कोई गम नहीं है
मैंने तुझसे ही की है मोहब्बत किसी से कोई मतलब नहीं है
मैं तुझे चाहता हूं अपने दिल में रखना
मुझे अब किसी से कोई चाहत का वास्ता नहीं है

28
यह सरफरोशी अब मेरे दिल में रह जाएगी
तेरी खूबसूरती मेरी आंखों में बस जाएगी
मैंने तुझे देख लिया है अब एक बार तो ठीक है
मेरी जान अभी जिंदगी तेरी भी तेरी याद में गुजर जाएगी

29
प्रिया तुम्हें अपने दिल में ऐसे बस कर रखना चाहता हूं
जैसे भी हो मैं तुझे हमेशा अपने पास रखना चाहता हूं
तू मुझे कभी छोड़कर मत जाना मिरी जान
मैं तुझे हमेशा अपने पास
अपनी आंखों के सामने देखना चाहता हूं

30
मैं तुझसे ही मोहब्बत निभाना और करना चाहता हूं
मैं तुझे ही अपना सब कुछ समझाना चाहता हूं
तेरे साथ ही अपने दुख दर्द बांट कर
तुझे अपने जीवन का हमदर्द बनाना चाहता हूं

31
हर कोई तेरे हुस्न की तारीफ कर सकता है
हर कोई तेरे जिस्म को पाने की तमन्ना रख सकता है
पर हमने तो दिल की खूबसूरती को देखा है
इसीलिए हम तुझसे मोहब्बत करते हैं
हम गैरों की तरह तेरे जिस्म से ही प्यार नहीं करते हैं

32
मेरी मोहब्बत सबकी जैसे नहीं है
मेरी मोहब्बत कुछ अलग सी है
मैंने जो तुझे चाहा है एक बार बस
अब तुझे चाहता रहूंगा
मुझे फिर तेरे अलावा और किसी की फिक्र नहीं है

33
यह चाहत तेरे सामने ऐसे ही रह जाएगी
चाहत तुझ से ऐसे ही होती जाएगी
मैं तुझे चाहता रहूंगा हमेशा
और तू हमेशा मेरी बनकर रह जाएगी

34
मोहब्बत करना चाहता हूं तुझसे
मैं अपना बनाना चाहता हूं तुझे
तू हमेशा मेरे साथ रहना मेरे साथ
मैं सिर्फ तुझे ही दिल से लगा कर रखना चाहता हूं

35
हर सफर जिंदगी इतनी मुश्किल नहीं होती
हर कोई किसी की कमी महसूस नहीं होती
मुझसे दूर जाती है तो मुझे अच्छा नहीं लगता
मुझे तेरे सिवा अब किसी के पास रहने की इच्छा नहीं होती

36
तेरी इन तस्वीरों को कब तक देखूं मैं
कभी तो मुझसे मिलने आओ ना
कभी तो अपने आंखों को मेरी आंखों से मिलाओ ना
मैं तुम्हारे गले लग कर तुमसे कुछ बात कहना चाहता हूं
कभी तो तुम मेरे गले लग कर मुझे सुनो ना

37
तुम्हारे कांधे पर सर रखकर सोना चाहता हूं मैं
तुम्हारी खूबसूरती को पास से निहराना चाहता हूं मैं
मैंने तुझे देख रहा है अब तक सिर्फ तस्वीरों में
तुझे हकीकत में देख कर अपने सीने से लगाना चाहता हूं मैं

38
तेरी मोहब्बत ही को मैंने अपना माना है
तुझे ही मैंने अपना जीवन का साथ ही माना है
मैं तुझे चाहता रहूंगा हरदम ऐसे ही
मैंने तुझे ही अपने जीवन की अभिलाषा माना है

39
तू कभी मुझे छोड़कर मत जाना
तू हमेशा मेरे साथ निभाना
तेरी खूबसूरती को चाहने वाले हजार मिल जाएंगे
पर हमारे जैसा कोई दिलदार मिल जाए तो फिर तो उसके पास से लौट जाना।।

40
तुझे लाखों मिले होंगे मेरे जैसे
पर मुझे तो तेरे जैसा सिर्फ एक ही मिला है
इसीलिए मैं तुझे खोना नहीं चाहता
तेरी हर ख्वाइश पूरी करना चाहता हूं मैं
पर तुझे कभी खुद से दूर करना नहीं चाहता

41
तुझे खुद से दूर करने की मेरी इच्छा नहीं है
तुझे खुद से दूर करने की मेरी कोई चाहत नहीं है
मैं तो हमेशा तुझे अपने पास रखना चाहता हूं
मुझे सिर्फ और सिर्फ तेरा होकर रहना है
इसके अलावा मेरी और कोई दूसरी ख्वाहिश नहीं है

42
तेरी ख्वाइश ही मेरी सब कुछ है तेरी जिंदगी ही मेरी सब कुछ है मैं तेरे लिए कुछ भी कर सकता हूं
क्योंकि तुझे खुश रखना और तेरी चेहरे पर मुस्कुराहट लाना इतना ही अब मेरी जिंदगी है।।

43
मेरी हर शायरी हर गीत में तेरा ही चेहरा होता है
तुझे ही सामने रखकर मेरा हर एक गजल पूरा होता है
तुझे ही देखना चाहता हूं मैं सुबह उठते ही
क्योंकि तेरे चेहरे को देखकर ही मेरे दिन का शुरुआत होता है

44
मैं हमेशा से तुझसे कहता हूं कि तुम मेरी बनकर ही रहना
मैं हमेशा से तुझसे कहता हूं कि तुम मेरे से ही चाहत रखना
मैं हमेशा चाहता हूं तुझे ऐसे ही.. तू हमेशा मुझे ऐसे ही चाहती रहना../

45
मैं तेरी चाहत को हमेशा दिल में रखना चाहता हूं
मैं सिर्फ और सिर्फ तुझे ही अपना बनाना रखना चाहता हूं
मैं करता हूं तुझसे मोहब्बत
यह मैं हमेशा तेरे से हर बार हर लफ़्ज़ में तुझे देखकर कहना चाहता हूं।।

46
तुझे देखने की इस दिल में हसरत बहुत है
इस दिल में तेरे लिए चाहत बहुत है
हमने मांगा है तुझे खुदा से कुछ इस तरह
की तेरी हर चाहत को देखने की मेरे दिल में तमन्ना बहुत है

47
तू भी कभी अपनी मोहब्बत का इजहार किया
तो तू भी कभी हमसे प्यार किया कर
हमें तब तक करते रहेंगे इजहार ए मोहब्बत का
तू भी कभी सामने आकर इस दिल की हाल बयां किया कर

48
खूबसूरती सिर्फ चेहरे से ही नहीं होती
दिल की खूबसूरती भी मायने रखती है
चेहरे तो बदलते देखे हैं मैंने बहुत
पर लोगों के रिश्ते कभी भी मैंने बदलते नहीं देखे हैं

49
यह दिल के रिश्ते हैं यह कभी बदल नहीं सकते
यह मोहब्बत के बंधन है टूट नहीं सकते
एक बार जिसे चाहा लिया तो चाहा लिया
फिर कभी भी हम उसके सिवा किसी और के हो नहीं सकते

50
यह चाहती है मोहब्बत की तलब ऐसे ही बढ़ती जा रही है
तुझसे मिलने की हसरत दिल में बढ़ती जा रही है
हमने चाहा है तुझे और चाहते रहेंगे ऐसे ही
तेरी आंखों के दीदार करने की चाहत दिल में अब और तेज होती जा रही है।।

51
यह तेरी मोहब्बत और यह तेरी चाहत को ही
मैं अपना सबकुछ मान बैठा हूं
अब मैं तुझे अपना खुदा मान बैठा हूं
तेरी ही बारे में सोचता हूं हर बात मैं
तेरी इन आंखों को भी अपना आईना मान बैठा हूं

52
तेरी आंखों से आंखें मिलाकर बात करना चाहता हूं
मैं तेरी जुल्फों की घनी छांव में सोना चाहता हूं
जब तू प्यार से फिरेगी मेरे सर पर हाथ
तो तुझे सीने से लगाकर थोड़ी देर ऐसे ही देखते रहना चाहता हूं

53
जिंदगी में कभी तेरे अलावा
मैं किसी और को चाहा नही सकता
क्योंकि जब यह दिल तेरा हो चुका है
इसमें किसी और का बसेरा नहीं हो सकता
हमेशा से चाहत रहती है मुझे तेरे पास होने की
पर कोई भी मुझे तुझसे जुदा नहीं कर सकता

54
मैं तेरे से एक पल भी दूर नहीं रहना चाहता
मैं तुझसे मोहब्बत का रिश्ता तोड़ना नहीं चाहता
हमेशा से चाहा है मैंने तुझे और चाहता रहूंगा
मैं तेरे अलावा कभी और किसी से मोहब्बत करना नहीं चाहता।।

55
मैं हमेशा से तुझे ही चाहता हूं और मैं तुझसे ही प्यार करता हूं तेरे लिए ही मैं अपना सब कुछ छोड़ बैठा हूं
और तुझे पाने की आस है अब दिल में
वरना इस दुनिया को तो कब का भूला बैठा हूं

56
हर किसी को भुला दूंगा मैं
तेरी याद में सब को अपने दिल से निकाल दूंगा मैं
तेरी याद में जब से रोया हूं मैं
तो फिर सबको अपनी जिंदगी से दूर कर दूंगा मैं

57
तेरी याद में यह दिन और रात ऐसे ही गुजर जाते हैं
पर हमें कोई भी नींद के कोई भी झोंके नहीं आते हैं
हम ऐसे ही बैठे रहते हैं तेरी याद में हमेशा
जैसे कि हमें कोई तेरे सिवा दिखाई ही नहीं देते हैं

58
से भी जाऊं तो मुझे तेरे ख्याल आते हैं
फोटो भी तो मुझे तेरा चेहरा सामने आता है
यह कैसी मोहब्बत हो चुकी है मुझे तुझसे
कि तेरे अलावा मुझे कुछ और दिखाई नहीं दे जाता है

59
तेरे अलावा अब मैं कुछ और देखना भी नहीं चाहता
मैं तेरी सूरत के अलावा किसी और को निहारने नहीं चाहता
मैं तेरी आंखों में खो जाना चाहता हूं अब
मैं अब किसी और के स्वप्न में नहीं जाना चाहता

60
यह दिल यह मोहब्बत की गली
ऐसे ही तेरी दिल से होकर गुजरेगी
हमारी हर मोहब्बत और हर चाहत तेरे दिल से होकर गुजरेगी तेरी गली में बार बार आएंगे तेरा दीदार करने
जब भी तू अपने घर से बाहर निकलेगी

61
तू अपने घर से बाहर निकलती है
तो हम तेरा इंतजार करने के लिए खड़े रहते हैं
हम तेरी खूबसूरती का दीदार करते हैं
हम तुझसे प्यार करने के लिए बेताब रहते हैं
हम सिर्फ तुझसे ही करते हैं मोहब्बत
हम तेरे बारे में ही सब कुछ सोचा करते हैं

62
यह मोहब्बत के रिश्ते हैं मेरे यह मोहब्बत ही चाहत है
मेरी मैंने हमेशा से चाहा है तुझे ऐसी मोहब्बत है मेरी
शायद कोई पिछले जन्म का रिश्ता लगता है हमारा
ऐसे ही कोई अहमियत मेरी जिंदगी में है तेरी

63
तेरी अहमियत तो कभी कोई मेरी जिंदगी से कम नहीं कर सकता
तेरी चाहत को कभी कोई मेरे दिल से मिटा नहीं सकता
अगर एक बार मैंने सोच लिया कि मैं तुझे ही चाहता हूं
तो फिर कोई भी तुझे मुझसे जुदा नहीं कर सकता

64
तेरी खूबसूरती के चर्चे हजार हैं
हम भी तुझे दिल देने को तैयार हैं
पर जहां से तूने मुझे एक बार मुड़ के रेखा
वही हम घायल हो गए
बस तेरी इसी अदा कि हम कायल हो गए

65
तेरी चाहत को मैं अब कभी खोना नहीं चाहता
मैं कभी अब तुझे खुद से दूर रखना नहीं चाहता
मैंने हमेशा चाहा है तुझे और मैं हमेशा तुझे ही चाहता रहूंगा इसके अलावा में और कोई दूसरा ख्याल दिल में लाना नहीं चाहता।।

66
और कोई दूसरा ख्याल में दिल में ना आ नहीं सकता
और मैं किसी को अपना बना नहीं सकता
मैंने जब चाहा है तुझे हमेशा तुझे तुझे ही चाहता रहूंगा
मैं तेरे अलावा कभी किसी और को सोच नहीं सकता

67
तेरे अलावा कोई मिनी किसी और को सोचा नहीं है
कि मैंने तेरे अलावा किसी और को चाहा नहीं है
हमने तुझसे की है मोहब्बत
हमने तेरे अलावा कभी किसी और के बारे में ख्वाबों में भी सोचा नहीं है।।

68
अब तो कभी मुझे छोड़कर मत जाना
कभी भी मेरा दिल तोड़ कर मत जाना
यह दिल में बस चुकी है अब तू ही तू सिर्फ
कभी भी अपनी आंखों का दीदार को मुझसे दूर मत ले जाना

69
तू दूर जाती है तो मेरा दिल नहीं लगता
तेरे सिवा मेरा कोई और इस जहां में दूसरा नहीं लगता
मैंने तुझे ही अपना परिवार अपना दिल जान सब कुछ माना है तेरी खूबसूरती के आगे मुझे अब कोई भी अच्छा नहीं लगता।।

70
बेशक तूने मुझसे अच्छे देखे होंगे
पर तुझे मेरे जैसे कोई चाह नहीं सकता
तेरी तारीफ तो मैं इतनी करता हूं कि मेरी डायरी चुकी है
अब तेरे अलावा मुझे कोई भी अपना बना नहीं सकता

71
मेरी हर गजल में तो तू होती है
मेरी हर सवेरा में तू होती है
मेरी रात भी तेरे से ही होती है
मेरा दिन भी तेरे से ही होता है
और तेरी ही चाहत में मेरा यह दिल रोता है
जब तु मुझसे छोड़ कर कहीं दूर होता है

72
कभी मुझे छोड़ने का ख्याल भी दिल में मत लाना
कभी मुझसे दूर जाने के बारे में मत सोचना
मैंने तुझे चाहा लिया है एक बार
तो तू हमेशा मेरे साथ ही रहना

73
मेरे साथ ऐसे ही रहते जाना
मुझसे ऐसे ही मोहब्बत निभाते जाना
मैंने चाहा है तुझे हमेशा
तो तू भी मुझे ऐसे ही चाहते जाना

74
तेरी यादों को मैं अब अपने दिल में बसा चुका हूं
अब उन्हें अपने दिल से निकाल नहीं सकता
और तुम क्या कहती है कि मैं तुझे भूल जाऊं
तो फिर ऐसा कभी हो नहीं सकता
अगर हमारा साथ साथ एक बंधन नहीं हो सकता
तो फिर मैं कभी किसी और का भी नहीं हो सकता

75
खूबसूरती ही खूबसूरती के बारे में सोचने का दिल करता है
मुझे तेरे गालों को छूने का दिल करता है
मैं हमेशा चाहता हूं कि तू मेरे पास रहे
मुझे तेरे ही खयालों में रहने का दिल करता है

76
मैं हमेशा तेरे ही ख्यालों में रहना चाहता हूं
मैं हमेशा तुझसे ही मोहब्बत निभाना चाहता हूं
जब मैंने एक बार तुझे बना लिया है अपना
तो फिर मैं हमेशा ही तुझे अपना बना कर रखना चाहता हूं

77
यह मोहब्बत यह चाहत यह सब तुझसे ही है
मेरी हर अदा मेरी हर शिकायत तुझसे ही है
मैंने तुझे चाहा लिया है अपना
तो मैं तुझे अपना बना कर ही रहूंगा
मेरी हर मोहब्बत की वजह तू ही है

78
तुझसे ही दिन खत्म और तुझसे ही मेरी रात होती है
तेरे ही हाथों में मेरा हाथ होता है
मैं हमेशा चाहता हूं कि तू मेरे पास रहे
तेरी ही दीदार करने से मेरी हर सुबह खुशहाल होती है

79
तेरे होठों को चूमना चाहता हूं मैं तुझे गले से लगाना चाहता हूं मैं जब तू रोए तो तुझे मनाना चाहता हूं मैं
बस तेरे पास रहकर तुझे हर खुशी देना चाहता हूं

80
तेरी आंखों में मैं कभी आंसू आने नहीं दूंगा
कभी तुझे खुद से दूर जाने नहीं दूंगा
तेरी हर ख्वाहिश कबूल करने की कसम खाता हूं मैं
कभी भी तुझे इतनी सी भी तकलीफ होने नहीं दूंगा

81
मैं तुझे कभी भी तकलीफ में देखना नहीं चाहता
मैं कभी भी तुझे तकलीफ देना नहीं चाहता
मैंने तुझे चाहा है हमेशा तुझे ही चाहता रहूंगा
तेरे अलावा किसी और को अपना बनाना नहीं चाहता

82
अब यह दिल और यह आशिकी सिर्फ तेरे से ही है
यह दिल तेरे बारे में ही सोचा करता है
तुझे ही चाहा है मैंने हमेशा
और यह दिल सिर्फ तुझसे ही मोहब्बत करता है

83
हमेशा से मैं यही सोचा करता था
मैं तेरे बारे में ही सोचा करता था
मैं चाहता था तुझे हरदम और
मैं तुझे ही अपने ख्यालों में सोचा करता था

84
आशिकी यह जिंदादिली सब तेरे आने से है
वरना जीवन में गम तो हर बहाने से हैं
हम मिले आज है बेशक
पर दिल तुझे जानता इस जमाने से है

85
यह दिल की बातें दिल में ही रह जाती हैं
अक्सर यह जुबान पर बड़ी लेट आती है
पर हमने तुझसे होते ही कर दिया मोहब्बत का इजहार
क्योंकि यह घड़ियां कब निकल जाती हैं
और इंसान कब दूर चला जाता है किसी को पता नहीं चलता और ये वक्त ऐसे ही निकल जाता है पता नही चलता

86
वक्त की कमी है मेरे पास
वरना मैं तुझे ऐसे ही बैठकर निहारता रहूं
यह पहली मुलाकात को मैं अपनी आखिरी मुलाकात बना लूं तुझे अपनी बाहों में सुला कर मैं अपने जीवन को हसीन लम्हा बना लूं।।

87
तेरे जीवन को ही हसीन लमहा समझता हूं मैं
सिर्फ तुझे ही अपना समझता हूं मैं
मैंने चाहा है तुझे इस कदर कि
तेरे अलावा किसी और की तरफ देखता भी नहीं हूं मैं

88
ए चाहती है मोहब्बत और यह रुसवाईयां तेरे आने से है
वरना मेरी जिंदगी तो कब की बेहाल हो चुकी थी
तेरे आने से ही मैंने वापस से जिंदगी जीना सीखा है
वरना मेरी जिंदगी में तो काफी रात हो चुकी थी

89
मेरी जिंदगी में कोई सवेरा नहीं है
मेरी जिंदगी में कोई शाम नहीं है
तेरे अलावा कोई मेरी पहचान नहीं है
दिल भी अब तेरे नाम से ही जाना जाता है मेरा
जैसे तू मेरे दिल की कोई अनजान नहीं है

90
राधा के बिना तो कृष्ण भी अधूरे थे
उसी तरह मेरा प्यार भी तेरे बिना अधूरा है
तू लौट आना मेरे पास तेरे बिना ही तेरा यार अधूरा है
तेरी तस्वीर को ही देखकर तुझे सोचता रहता हु मै
तेरे मिलने की हसरत अभी भी दिल में है
और तेरी यादों का मेरी पलकों पर पहरा है

91
तेरी चाहत को सोच कर ही मैंने अपने दिल को लगा लिया
मैंने तुझसे ही मोहब्बत कर ले तुझे अपना बना लिया
और तू देखती रहती है ख्वाबों में मुझे यह मैं जानता हूं
क्योंकि तूने भी एक बार मुझे देख कर शर्मा लिया

92
यह शर्माना मुस्कुराना किस लिए
अगर मोहब्बत नहीं है तो फिर यह बहलाना फुसलाना किसलिए मैं जानता हूं तू भी दिल ही दिल मुझे चाहती है
वरना जब भी नजरें मिली तो फिर नजरें झुकाना किसलिए

93
शाम रंगीन होती है तेरे आने से
जिंदगी में खुशी होती है तेरे आने से
वरना मेरी जिंदगी में तो खतम ही थी
यह जिंदगी खूबसूरत बन रही है तेरे आने से

94
इस जिंदगी में मोहब्बत नहीं होती
अगर तुझसे मेरी चाहत नहीं होती
जब से मैंने देखा है तुझे
मेरी फिर और किसी से बात नहीं होती

95
तेरे मैसेज का बेसब्री से इंतजार करता हूं
मैं तेरे मैसेज और की राह देखता रहता हूं
मैं तेरी चाहत को अपना बना कर
तुझे अपना बनाने का सपने सजाता रहता हूं

96
तेरी चाहत को ही मैं अपना बनाना चाहता हूं
मैं तुझसे ही मोहब्बत निभाना चाहता हूं
मैं तेरी मोहब्बत में इस तरीके से खो चुका हूं अब कि
मैं तेरे अलावा किसी और को सोचना भी नहीं चाहता हूं

97
तेरी खूबसूरती उस नदी के जैसी है जिसमें कोई दाग नहीं होता जो इतनी पवित्र होती है कि कोई उसके जैसा नहीं होता
जो उसे एक बार छू ले वह भी मंत्रमुग्ध हो जाता है
और जो उसमें एक बार अपने शरीर से लगा ले तो पवित्र हो जाता है

98
मैं कभी भी तेरा अपमान नहीं करना चाहता
मैं कभी भी तेरी जिस डिसरिस्पेक्ट करना नहीं चाहता
मैं तुझे हमेशा अपने से ऊपर रखता हूं
मैं कभी भी तुझे कुछ गलत कहना नहीं चाहता
क्योंकि तू मेरी जान है और मैं अपनी जान को कभी दुखी करना नहीं चाहता।।

99
मैं तेरी मोहब्बत को ही अपना
इस जिंदगी का सबसे हसीन तोहफा समझता हू
जो आज तक मुझे किसी से नहीं मिला मैं वह तुझे समझता हूं और तेरा प्यार ऐसे ही रहेगा मेरे दिल में हमेशा क्योंकि मैं तेरे दिल को ही अपना घर समझता हूं।।

100
कहां जाऊंगा मैं तुझे छोड़कर
तेरे पास ही रह जाऊंगा तुझे छोड़कर
और अपना सब कुछ तो छोड़ दिया है मैंने तेरे वास्ते
तू कहेगी तो दुनिया भी छोड़ जाऊंगा तेरे वास्ते

इनको भी जरूर देखे:

निष्कर्ष:

तो ये थे अपनी मनपसंद लड़की को प्रपोज करने के लिए बेस्ट शायरी कलेक्शन, हम उम्मीद करते है की आपको ये सभी शायरी जरूर अच्छी लगी होगी। इसके अलावा आप हमारी साइट के दूसरे आर्टिकल्स को भी एक बार जरूर पढ़े।