9 मुखी रुद्राक्ष पहनने के फायदे | 9 Mukhi Rudraksha Benefits in Hindi

नौ मुखी रुद्राक्ष एक शुभ मनका है, जिसकी सतह पर प्राकृतिक ऊर्ध्वाधर रेखाएँ होती हैं। यह देवी दुर्गा की महान शक्ति, ताकत और आशीर्वाद का प्रतिनिधित्व करता है। साथ ही यह देवी दुर्गा के नौ रूपों जैसा दिखता है।

यह नौ देवियों की ऊर्जा और आशीर्वाद का प्रतिनिधित्व करता है। जिनमें शैलपुत्री, ब्रह्मचारिणी, चंद्रघंटा, कुष्मांडा, स्कंद माता, कात्यायनी, कालरात्रि, महागौरी और सिद्धिधात्री मां दुर्गा के आदि रूप और ऊर्जा हैं।

ये सभी देवी शक्ति और पूरे ब्रह्मांड के निर्माता के रूप में पहचानी जाती है। क्योंकि ये ब्रह्मांड की दिव्य ऊर्जा अपने अंदर धारण करती है। इसी तरह यह मनका धारक को शानदार शक्तियां प्रदान करता है और बुरी शक्ति और काले जादू के खिलाफ ढाल के रूप में काम करता है।

नौ मुखी रुद्राक्ष के स्वामी राहु और केतु हैं जो पहनने वाले की कुंडली में ग्रहों की स्थिति में सुधार करते हैं। यह एक दिष्टकारी के रूप में कार्य करता है, जो आकाशीय पिंड के प्रतिकूल प्रभावों को समाप्त करता है।

यह धारक को शक्ति, साहस और दैवीय ऊर्जा प्रदान करता है। इस मनके की मां दुर्गा के आशीर्वाद के रूप में पूजा की जाती है जो पहनने वाले को नकारात्मकता और बुरी नजर से बचाता है।

यह भक्तों द्वारा पूजे जाने वाले अत्यधिक शक्तिशाली और रहस्यमय मोतियों में से एक है, जो इंसान के जीवन में सफलता और प्रसिद्धि लाता है। जावा इंडोनेशियाई और नेपाली रुद्राक्ष गुणवत्ता में श्रेष्ठ हैं और ये व्यापक आध्यात्मिक गुण रखते हैं।

इन स्थानों के नौ मुखी रुद्राक्ष शक्तिशाली, प्रामाणिक और दुनिया भर में प्रसिद्ध हैं। हालाँकि नेपाल के रुद्राक्ष के मनके बड़े होते हैं और सतह पर गहरी रेखाएँ होती हैं। इसके विपरीत इंडोनेशियाई रुद्राक्ष तुलनात्मक रूप से छोटा होता है और इसमें चिकनी और कम गहराई वाली मुखी रेखाएं होती हैं।

दोनों मनकों में समान रहस्यमय शक्ति है, लेकिन नेपाली रुद्राक्षों ने अपने आकार के कारण प्रभुत्व हासिल कर लिया है। यह बहुत ज्यादा उपचार शक्ति प्रदान करता है।

इसके अलावा लोग इंडोनेशियाई रुद्राक्ष खरीदना पसंद करते हैं क्योंकि यह नेपाली रुद्राक्ष की तुलना में सस्ती रेंज और कम कीमत में मिलता है। आदि शक्ति इस मनके के अधिष्ठाता देवता हैं।

इस प्रकार यह व्यक्ति को सकारात्मकता के साथ दिव्य ऊर्जा और अद्वितीय शक्ति प्रदान करता है। यह एक असाधारण मनका है। जैसा कि आप जानते हैं, सभी मनके प्रमुख रूप से भगवान शिव की शक्ति का प्रतिनिधित्व करते हैं।

लेकिन यह एकमात्र मनका है जो देवी दुर्गा की शक्ति को दर्शाता है। इस शानदार मनके को धारण करने से व्यक्ति को सभी नौ ग्रहों की शक्तियां और आशीर्वाद प्राप्त होता है। यह धारण करने वाले को तनाव, डिप्रेशन और आकस्मिक मृत्यु से भी बचाता है।

इस रुद्राक्ष को धारण करना लाभकारी होता है क्योंकि यह धारण करने वाले को निडर, आत्मविश्वासी और साहसी बनाता है। इसके अलावा यह जीवन की सभी बाधाओं का सामना करने के लिए इंसान को मजबूत भी बनाता है।

9 मुखी रुद्राक्ष क्या है?

9 Mukhi Rudraksha kya hai

नौ मुखी रुद्राक्ष सभी रुद्राक्षों में दिव्य रुद्राक्ष है। यह नौ मुखी रुद्राक्ष अपनी नौ विभिन्न शक्तियों के लिए जाना जाता है। इस रुद्राक्ष का प्रभाव बहुत ही उच्च और शक्तिशाली होता है। अलग-अलग आकार के मनके पहनने से अलग-अलग प्रभाव देखने को मिलते हैं।

इस रुद्राक्ष को नवमुख रुद्राक्ष के रूप में भी जाना जाता है क्योंकि इसमें नव दुर्गा के नौ देवताओं की अच्छाई होती है। इस नौ मुखी रुद्राक्ष में देवी दुर्गा (शक्ति) की शक्ति है। यह रुद्राक्ष नौ कोबरा (नौ कुली नाग) से संबंधित है।

जो लोग नाग देवता की पूजा करते हैं वे अधिकतर इस रुद्राक्ष को धारण करते हैं क्योंकि इस मनके में नाग की शक्ति होती है। नौ मुखी रुद्राक्ष अच्छा स्वास्थ्य, मन की शांति, खुशी देता है और दरिद्रता को दूर करता है।

इसे धारण करने वाले को अपने जीवन में सही, सकारात्मक और सटीक निर्णय लेने की क्षमता प्राप्त होती है। यह पहनने वाले को मजबूत इच्छाशक्ति और व्यापक दृष्टि प्राप्त करने में मदद करता है।

यह कई नकारात्मक पापों को नष्ट करने में भी मदद करता है। नौ मुखी रुद्राक्ष विभिन्न स्वास्थ्य समस्याओं जैसे तनाव, मनोवैज्ञानिक मुद्दों और शारीरिक बुराइयों को ठीक करता है। ब्लड प्रेशर या थायराइड की समस्या से पीड़ित लोगों को यह रुद्राक्ष धारण करना चाहिए।

इसमें देवी मां (दुर्गा मां) की कृपा है, नौ मुखी रुद्राक्ष पहनने वाले को सभी देवताओं की कृपा प्राप्त होती है। कोई भी व्यक्ति जो किसी भी रूप में देवी दुर्गा मां की पूजा करता है, उन्हें यह नौ मुखी रुद्राक्ष अवश्य धारण करना चाहिए।

नौ मुखी रुद्राक्ष का मनका अपनी पवित्रता और शक्ति के लिए जाना जाता है। इंसान अपने ज्योतिषी से परामर्श करने के बाद मोती पहनना चाहिए। नौ मुखी रुद्राक्ष की माला रुद्राक्ष के पेड़ से एकत्रित की जाती है।

रुद्राक्ष का पेड़ 50 से 80 फीट तक बड़ा होता है और इसके पत्ते आम के पेड़ की तरह होते हैं। मोतियों को बनाने की प्रक्रिया में विभिन्न चरण शामिल हैं जैसे पहले फूल गर्मियों में लगते हैं और फल (रुद्राक्ष) नवंबर के सर्दियों के मौसम के मध्य में पकते हैं।

प्रत्येक रुद्राक्ष मुख संख्या और आकार में भिन्न होता है। रुद्राक्ष एक मुखी रुद्राक्ष से लेकर इक्कीस मुखी रुद्राक्ष तक उपलब्ध हैं। हर रुद्राक्ष के अलग-अलग गुण और महत्व होते हैं।

नौ मुखी रुद्राक्ष की माला का वैदिक इतिहास है और देवी नवदुर्गा का प्रतीक है, जिनके नौ अवतार थे। देवी दुर्गा पवित्र और अच्छे लोगों की रक्षा के लिए नौ बार पृथ्वी पर आईं थी। नौ मुखी रुद्राक्ष धारण करने से व्यक्ति निडर और वीर बनता है।

नौ मुखी रुद्राक्ष पहनने वाला एक छोटे बच्चे की तरह महसूस करता है जो मां की गोद में बैठकर आनंद ले रहा है। नौ मुखी रुद्राक्ष पहनने वाले को ऊर्जा, शक्ति, जीवन शक्ति और साहस का आशीर्वाद प्राप्त होता है।

जिन व्यक्तियों में आत्मविश्वास की कमी है और जो डिप्रेशन, तनाव से पीड़ित हैं, उन्हें यह नौ मुखी रुद्राक्ष धारण करना चाहिए।

  • अधिष्ठात्री देवी: दुर्गा
  • सत्तारूढ़ ग्रह: केतु
  • बीज मंत्र: ॐ ह्रीं हुं नमः

9 मुखी रुद्राक्ष की उत्पत्ति

एक मूल नौ मुखी रुद्राक्ष देवी दुर्गा की भरपूर शक्तियों से बना होता है। यह पहनने वाले को पापों और चिंताओं को नष्ट करने की शक्ति प्रदान करता है। 9 मुखी रुद्राक्ष देवी दुर्गा के सभी देवियों की दिव्य ऊर्जा को कवर करता है।

यह रुद्राक्ष एक सुरक्षा कवच के रूप में कार्य करता है और पहनने वाले को जीवन की सभी बाधाओं से बचाता है। नौ मुखी रुद्राक्ष पहनने वाले को राहु के दुष्प्रभाव से बचाता है। इसके अतिरिक्त यह रुद्राक्ष नौ कोबरा (नौ कुली नाग) का प्रतीक है।

जो लोग नाग देवता की पूजा करते हैं, वे ज्यादातर नाग की शक्ति के कारण इस मनके को धारण करते हैं। इस पवित्र रुद्राक्ष के प्रयोग से सर्पदंश भी ठीक हो जाता है। नौ चेहरों वाला रुद्राक्ष नेपाल और जावा इंडोनेशियाई जैसी विभिन्न किस्मों में पाया जाता है।

नेपाल किस्म के मनकों में स्पष्ट और गहरी मुखी रेखाओं के साथ कांटेदार सतह होती है। जबकि जावा मनकों में तुलनात्मक रूप से छोटी, चिकनी और दृश्य रेखाएँ होती हैं। नेपाल के 9 मुखी रुद्राक्ष की उपचार आवृत्ति की तीव्रता अधिक होती है, जबकि जावा मनकों को अपना प्रभाव दिखाने में धीमा समय लगता है।

असली 9 मुखी रुद्राक्ष की पहचान कैसे करें?

9 Mukhi Rudraksha ki pehchan kaise kare

महाशिवपुराण के अनुसार नौ मुखी रुद्राक्ष असली है या नहीं, इसका परीक्षण करने का एकमात्र वास्तविक तरीका यह है कि मनके को बीच से आधा काट दिया जाए और अंदर के बॉक्स की संख्या गिन ली जाए। यह बाहर के मुखों की संख्या से मेल खाना चाहिए।

इसलिए एक मूल नौ मुखी रुद्राक्ष के अंदर सिर्फ 9 बॉक्स होंगे। लेकिन आज की तकनीक के साथ, हमें मनका काटने की आवश्यकता नहीं है। हम एक्स-रे की मदद से इसका पता लगा सकते हैं।

ऑनलाइन कई प्रकार के टेस्ट का उल्लेख किया गया है, लेकिन उनमें से कोई भी पूरी तरह सटीक नहीं है। उदाहरण के लिए- ऐसा कहा जाता है कि एक प्राकृतिक मनका पानी में डुबोने पर डूब जाता है, जबकि एक नकली मनका पानी में तैरता रहेगा।

परंतु यह सच्चाई नहीं है, क्योंकि हवा और नमी के साथ एक प्राकृतिक मनका पानी में तैरता रहेगा। जबकि अगर आप नकली हाथ से बने मनके के अंदर सीसे जैसी किसी भारी धातु की एक छोटी सी बूंद डालते हैं, तो वह पानी में डूब जाएगा।

तो मनका असली है या नहीं, यह जानने का एकमात्र निश्चित तरीका एक लैब से किया गया एक्स-रे है। तो हमारी आपको यही राय है, कि आप किसी trusted सोर्स से ही नौ मुखी रुद्राक्ष की खरीददारी करें।

9 मुखी रुद्राक्ष कौन पहन कर सकता है?

9 Mukhi Rudraksha kaun pehan sakta hai

कोई भी रुद्राक्ष की माला पहन सकता है क्योंकि रत्नों के विपरीत, इन मोतियों का कोई नकारात्मक या दुष्प्रभाव नहीं होता है। यदि आप किसी समस्या का सामना कर रहे हैं तो आप निश्चित रूप से 9 मुखी रुद्राक्ष धारण कर सकते हैं।

रत्नों के विपरीत आपको रुद्राक्ष की माला पहनने से पहले अपनी कुंडली या राशि की जाँच करवाने की आवश्यकता नहीं है। परंतु नौ मुखी रुद्राक्ष को धारण करने से पहले ग्रहों की चाल को समझना बहुत जरूरी है।

आप नौ मुखी रुद्राक्ष के फ़ायदों को जानकार उसी के अनुसार पहन सकते हैं। ये बीड्स यूनिसेक्स हैं इसलिए इन्हें पुरुष और महिलाएं दोनों पहन सकते हैं। परंतु आपको इसे धारण करने से पहले खुद को शुद्ध करना होगा।

रुद्राक्ष धारण करने का मंत्र

9 मुखी रुद्राक्ष खरीदने के बाद, आपको केवल सोमवार या शनिवार की सुबह “ओम ह्रीं हम नमः” का 108 बार जाप करने के बाद इसे पहनना है। धारण करने से पहले माला को दूध से धोकर गंगा जल से धो सकें तो अति उत्तम होगा, यदि नहीं तो 108 बार “ॐ ह्रीं हुं नमः” का जाप करके गले में धारण कर सकते हैं।

9 मुखी रुद्राक्ष कैसे धारण करें?

9 Mukhi Rudraksha dharan kaise kare

नौ मुखी रुद्राक्ष एक शुभ मनका है जिसे धारण करने से पहले अभिमंत्रित करने की आवश्यकता होती है। इस प्रकार इसे गंगाजल और गाय के कच्चे दूध से धोना आवश्यक होता है।

इसके अतिरिक्त इसके वास्तविक और प्रामाणिक लाभ प्राप्त करने के लिए किसी ज्योतिषी से परामर्श करने की भी सलाह दी जाती है। इस मनके को धारण करने की उचित प्रक्रिया इसके प्रभाव और शक्ति को अधिकतम करती है।

इस आध्यात्मिक मनके को धारण करने के लिए शनिवार का दिन आदर्श है। सुबह जल्दी उठकर स्वयं को शुद्ध करें और शनिवार की सुबह स्नान के बाद इस रुद्राक्ष को धारण करें। इस मनके को उचित मानदंडों के साथ पहनना महत्वपूर्ण है।

इसके लिए एक पवित्र स्थान पर बैठें, साफ कपड़े पहनकर पूर्व दिशा की ओर मुख करें और काले, पीले और लाल रंग में रेशम/ऊनी धागे के साथ इस रुद्राक्ष को धारण करें। इस रुद्राक्ष को धारण करने के लिए चांदी और सोना आदर्श धातु है।

इस मनके के प्रति निष्ठा के साथ 108 बार “ॐ ह्रीं हूं नमः” का जाप करें क्योंकि यह इस रुद्राक्ष के रहस्यमय गुणों को सशक्त बनाता है और पहनने वाले को ज्यादा से ज्यादा लाभ प्रदान करता है।

आप रुद्राक्ष को आभूषण के रूप में भी पहन सकते हैं। इसके अलावा ज़्यादातर लोग महत्वपूर्ण और ज्योतिषीय मोतियों की एक क्रम व्यवस्था के साथ रुद्राक्ष की माला को गले में पहनना पसंद करते हैं।

यह रुद्राक्ष की माला आपके शरीर के साथ जुड़कर शरीर के चक्रों को सक्रिय करती है, जो आपको कई फायदे प्रदान करते हैं। हालांकि कुछ वैदिक और ज्योतिषीय मानदंडों से जुड़े आध्यात्मिक मोती पहनने से पहले ज्योतिषी से सलाह लेना महत्वपूर्ण है।

नौ मुखी रुद्राक्ष के मोतियों के आभूषण पहनना भी लोकप्रिय है। लेकिन मोतियों को उचित क्रम और तरीके से पहनना भी महत्वपूर्ण है। नौ मुखी रुद्राक्ष से रहस्यमय लाभ प्राप्त करने के लिए धागे के साथ धारण करना एक सटीक पद्धति है।

इस रुद्राक्ष को धारण करने की उचित प्रक्रिया आपको व्यापक और अधिकतम लाभ देती है और कम समय में सकारात्मक प्रभाव दिखाती है। इसके अतिरिक्त आप अपनी कुंडली का मूल्यांकन करने के लिए किसी ज्योतिषी से परामर्श कर सकते हैं और इस मनके को अपनी राशि और राशिफल के अनुसार धारण कर सकते हैं।

ग्रहों की चाल समय-समय पर राशि पर प्रभाव बदलती रहती है, जिससे व्यक्ति के जीवन पर बुरा प्रभाव पड़ता है। नतीजतन ज्योतिषी ग्रह के प्रतिकूल प्रभाव से निपटने वाले लोगों को यह मनका देते हैं।

यह ग्रह के प्रभाव को सुधारता है और अशुभ प्रभाव को समाप्त करके कुंडली में सुधार करता है। इसके साथ ही यह पहनने वाले के जीवन में सकारात्मकता, आत्मविश्वास और सौभाग्य लाता है।

9 Mukhi Rudraksha Benefits in Hindi

9 Mukhi Rudraksha benefits in hindi

वैदिक ग्रंथों को देखने से संकेत मिलता है कि आध्यात्मिक रुद्राक्ष मानव जाति के लिए अत्यधिक लाभकारी है। अगर हम नौ मुखी रुद्राक्ष की बात करें तो यह एक कीमती, रहस्यमय और शक्तिशाली मनका है जो इसे पहनने वाले को कई लाभ देता है।

यह मां दुर्गा के नौ रूपों के समान है और इसमें दिव्य आशीर्वाद समाहित हैं। जो पहनने वाले को सफलता प्राप्त करने में मदद करता है। प्राचीन काल में साधु और संत प्रमुख रूप से इसे पहनते थे।

लेकिन वर्तमान समय में इसे हर कोई धारण कर माँ दुर्गा का आशीर्वाद प्राप्त कर सकता है। ऐसा माना जाता है कि नौ मुखी रुद्राक्ष बहुत सारी चिंताओं और नकारात्मकता को दूर करके पहनने वाले को बिना शर्त लाभ देता है।

यह ज्योतिषीय, चिकित्सीय, भौतिक लाभ प्रदान करता है। इस शानदार मनके को धारण करने से व्यक्ति अधिक शक्ति, साहस और भय और खतरे से मुक्त महसूस करता है।

इसमें देवी दुर्गा की रहस्यमय और दिव्य शक्तियाँ हैं जो इसे पहनने वाले को अनगिनत लाभों का आशीर्वाद देती हैं। आप एक प्रामाणिक नौ मुखी रुद्राक्ष पहनकर विशिष्ट लाभ भी प्राप्त कर सकते हैं।

बस सही पद्धति का पालन करें और आध्यात्मिक मनका पहनने से पहले किसी ज्योतिषी या विशेषज्ञ से सलाह लें। इस रुद्राक्ष से प्राप्त होने वाले कुछ लाभ इस प्रकार हैं-

1. अशुभ प्रभाव को दूर करता है

नौ मुखी रुद्राक्ष में राहु ग्रह की शक्ति होती है जो व्यक्ति की कुंडली में ग्रहों के हानिकारक प्रभाव को खत्म करने में मदद करता है। यह राहु और केतु के अशुभ प्रभावों को प्रभावी ढंग से समाप्त करता है और आपकी कुंडली में ग्रह की स्थिति में सुधार करता है।

2. आत्मविश्वास और साहस बढ़ाता है

यह एक आदर्श मनका है जो धारक को शक्तिशाली और आत्मविश्वासी बनाता है। यह उन्हें सकारात्मकता प्रदान करता है, जो इंसान के आत्मविश्वास के स्तर को बढ़ाता है।

यह पहनने वाले को साहस देता है और उन्हें जोखिमों से मुक्त करता है क्योंकि यह एक सुरक्षा कवच के रूप में काम करता है। इस प्रकार जिन लोगों में आत्मविश्वास की कमी है, यह उनके लिए एक प्रभावी मनका है।

3. रोगों से सुरक्षा करता है

यह उन लोगों के लिए अनुशंसित मनका है जो अक्सर स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं से जूझते हैं। यह मस्तिष्क, पिट्यूटरी ग्रंथि, यौन अंगों और आंखों से संबंधित समस्याओं को प्रभावी ढंग से ठीक करने वाला मनका है।

साथ ही यह अच्छी हैल्थ का निर्माण करता है और प्रजनन स्वास्थ्य में सुधार करता है। कहते हैं, इसे धारण करने के बाद इंसान के शरीर से सभी प्रकार की बीमारियाँ नष्ट हो जाती है।

3. मस्तिष्क (माइंड) की कार्यक्षमता में सुधार करता है

यह मनका तंत्रिका तंत्र और मस्तिष्क की कार्यप्रणाली को नियंत्रित करता है जो एक व्यक्ति को शार्प माइंड और बौद्धिकता प्रदान करता है। यह एक शक्तिशाली मनका है जो पहनने वाले के जीवन में रचनात्मकता, विश्लेषणात्मक सोच और सकारात्मकता को बढ़ाता है।

4. समृद्धि प्रदान करता है

नौ मुखी रुद्राक्ष देवी दुर्गा के आशीर्वाद से जुड़ा हुआ है। इस प्रकार यह आदर्श रूप से जीवन से चिंताओं को दूर करके अच्छे भाग्य का निर्माण करता है। मोक्ष और आराम पाने के लिए माँ दुर्गा की पूजा की जाती है, और यह मनका माँ दुर्गा की प्रमुख कृपा रखता है।

इस प्रकार यह व्यक्ति के जीवन में सफलता, खुशी और समृद्धि लाता है। आप इस रुद्राक्ष को धारण करने के बाद समृद्धि प्राप्त कर अपने जीवन को सुखी और खुशहाल बना सकते हैं।

5. मानसिक शांति प्रदान करता है

यह बुराई के प्रभाव को खत्म करने में मदद करता है और आपके दुश्मनों से आपकी रक्षा करता है। इस शुभ मनके को धारण करने से आप कई प्रकार के तनावों, चिंताओं और नकारात्मकता से दूर रहते हैं।

जो प्रभावी रूप से आपको मानसिक शांति प्रदान करते हैं और आपके मन को शांत करते हैं। इसे धारण करने के बाद इंसान की आत्मा शुद्ध हो जाती है। जिससे उसके मन में हमेशा शांति प्रभावी रहती है।

6. उपचार करने की शक्ति

यह फोबिया, चक्कर आना, मनोवैज्ञानिक विकार, त्वचा की समस्याओं और कई अन्य समस्याओं को दूर करने वाला एक प्रभावी मनका है। इसमें उपचार शक्ति होती है जो गतिशील रूप से शौर्य, सहनशक्ति और साहस को बढ़ाती है।

इस मनके को पहनकर आप विभिन्न समस्याओं से निपट सकते हैं क्योंकि यह एक शानदार और दिव्य मनका है। इसे धारण करने के बाद आपका शरीर कई प्रकार की हैल्थ प्रॉबलम्स से खुद ही निपट लेता है।

नौ मुखी रुद्राक्ष धारण करने बाद क्या करें और क्या न करें?

पहनने वाले को 9 मुखी रुद्राक्ष धारण करते समय मांसाहारी भोजन, शराब और कब्रिस्तान जाने से बचना चाहिए। यदि करना ही है तो सबसे पहले मनका निकालकर अपने पूजा स्थान में रख दें।

इसके अलावा यदि आप बाहर हैं तो पहले इसे अपने बैग या जेब में रख सकते हैं और फिर अगले दिन स्नान करने के बाद फिर से धारण कर सकते हैं। माला धारण करते समय मांसाहार या शराब का सेवन न करें।

आप भी रोज रात को सोने से पहले मनका निकाल दें और अगली सुबह फ्रेश होकर नहाने के बाद इसे फिर से पहन लें। नौ मुखी रुद्राक्ष खरीदने के बाद इसे साफ पानी से धोकर गाय के दूध में एक दिन के लिए डुबोकर रखें।

  • प्रतिदिन इसकी पूजा करें।
  • इस पर हमेशा भरोसा रखें।
  • किसी को भी नौ मुखी रुद्राक्ष की माला नहीं दिखानी चाहिए।
  • टूटा हुआ मनका कभी न पहनें।
  • अपनी माला किसी को न दें।
  • इसे पहनने के बाद केमिकल वाले साबुन का इस्तेमाल न करें।
  • इसे धारण करने के बाद मांसाहारी भोजन न करें।
  • इसे धारण करने के बाद शराब का सेवन न करें।
  • अंतिम संस्कार में जाने से पहले इसे निकालकर रख दें।
  • सोने से पहले इसे निकालर जहां आप भगवान की पूजा करते हैं वहां रख दें।
  • नौ मुखी रुद्राक्ष धारण करते समय और बाद में आपका मन पूरी तरह से स्वच्छ होना चाहिए।
  • अशुद्ध मन के साथ इसे धारण करने पर आपको बहुत सारे नकारात्मक प्रभाव देखने को मिलेंगे।
  • रुद्राक्ष धारण करने के बाद गाय की सेवा करने का एक नियम बना लें।

इनको भी जरुर पढ़े:

निष्कर्ष:

तो ये था 9 मुखी रुद्राक्ष पहनने के फायदे, हम आशा करते है की इस लेख को पूरा पढ़ने के बाद आपको 9 मुखी रुद्राक्ष के बेनिफिट पता चल गए होंगे.

अगर आपको हमारी पोस्ट हेल्पफुल लगी तो इसको शेयर जरुर करें ताकि अधिक से अधिक लोगों को 9 मुखी रुद्राक्ष के बारे में पूरी जानकारी मिल पाए. आपको हमारी पोस्ट कैसी लगी उसके बारे में भी हमें कमेंट में जरुर बताएं.