शतावरी चूर्ण से वजन कैसे बढ़ाएं | Shatavari Churna For Weight Gain in Hindi

शतावरी चूर्ण पुराने समय से भारतीयों की पहली पसंद रही है। शतावरी आयुर्वेद में उपयोग की जाने वाली आवश्यक जड़ी बूटियों में से एक है। यह आमतौर पर महिला प्रजनन हैल्थ जैसे गर्भधारण, गर्भपात की रोकथाम और कामेच्छा में सुधार के लिए उपयोग की जाती है।

संस्कृत में शतावरी नाम का अर्थ है “एक सौ जड़ें” जिसे एक अन्य अर्थ “एक सौ पति” के रूप में भी संदर्भित किया जाता है। शतावरी नाम ही एक कायाकल्प टॉनिक का सुझाव देता है।

जिसका अर्थ है कि यह किसी भी व्यक्ति की अच्छी हैल्थ को विकसित करने और बनाए रखने में मदद करती है। आयुर्वेद के प्राचीन ग्रंथों जैसे “चरक संहिता” में शतावरी के पारंपरिक उपयोग का उल्लेख पहले ही किया जा चुका है।

इस ग्रंथ में वर्णन किया गया है कि आमतौर पर इसका उपयोग मिर्गी, मस्तिष्क टॉनिक के रूप में, वात विकारों, हृदय संबंधी विकारों और हाइ ब्लड प्रेशर जैसी गंभीर स्थितियों को रोकने के लिए किया जाता है।

चूंकि शतावरी के कई हैल्थ बेनेफिट्स हैं। इसलिए इसका व्यापक रूप से पुरुष यौन समस्याओं (sexual problems) जैसे इरेक्टाइल डिसफंक्शन, ओलिगोस्पर्मिया, शुक्राणुजन्य अनियमितताओं और दर्दनाक पेशाब जैसी अन्य समस्याओं में उपयोग किया जाता है।

वात दोष आमतौर पर सभी यौन समस्याओं को नियंत्रित करता है। वात दोष में कोई भी असंतुलन किसी भी यौन अक्षमता का कारण बन सकता है। चूँकि शतावरी वात दोष को मैनेज करने में मदद करती है, इसलिए इसे सभी यौन विकारों (sexual disorders) में बहुत फायदेमंद माना जाता है।

शतावरी के बारे में जानकारी

shatavari kya hai

इसका वानस्पतिक नाम ऐस्पैरागस रेसमोसस है। शतावरी पूरे भारत में आसानी से मिल जाती है। विशेष रूप से यह भारत के उत्तरी क्षेत्रों में अधिक उपलब्ध है। शतावरी का तना कई सींगों से भरा होता है। इसकी शाखाएँ कुछ तिकोनी होती हैं जो छूने में थोड़ी चिपचिपी या तैलीय होती हैं।

इसके पत्ते लंबाई में लगभग ½ – 1 इंच बड़े होते हैं और आमतौर पर एक साथ लगभग 2-6 पत्तियों के गुच्छे में देखे जाते हैं। इसके फूल भव्य, सफेद रंग के और सुखद सुगंध से भरे होते हैं और आमतौर पर गुच्छों में पाए जाते हैं।

इसके फल छोटे और गोल आकार के होते हैं जो पकने के बाद लाल रंग के दिखाई देते हैं। इन फलों के अंदर 1-2 बीज भी होते हैं। शतावरी के आयुर्वेदिक गुण इसे हैल्थ प्रॉबलम्स में अधिक कुशल बनाते हैं।

शतावरी प्रकृति में गुरु (भारी) और स्निग्धा (तैलीय) है। यह गुण इसे एक संपूर्ण भोजन बनाता है जो शरीर में परिपूर्णता प्रदान करता है। यह स्वाद में मधुरा (मीठा) और तिक्त (कड़वा) होता है।

शतावरी तीनों दोषों, विशेष रूप से वात और पित्त दोष को प्रबंधित करने में मदद करती है। कुल मिलाकर शतावरी आयुर्वेद की आवश्यक जड़ी बूटियों में से एक है, जो कायाकल्प और कामोत्तेजक दोनों के रूप में काम करती है।

इसका मतलब है कि शतावरी अच्छी हैल्थ को मैनेज करने में मदद करती है। इसके अलावा यह हैल्थ को बढ़िया बनाने में मदद करती है। साथ ही शतावरी उन लोगों के लिए भी बढ़िया विकल्प है, जो अपना वजन बढ़ाना चाहते हैं।

शतावरी चूर्ण क्या है?

शतावरी चूर्ण आयुर्वेद में उपयोग की जाने वाली एक बेहतरीन चूर्ण है। इसे अक्सर शतावरी पाउडर के रूप में भी जाना जाता है। शतावरी चूर्ण या पाउडर शतावरी रेसमोसस पौधे की जड़ों से तैयार किया जाता है।

आप अपने पास की किराने की दुकान पर आसानी से शतावरी का चूर्ण खरीद सकते हैं। शतावरी मूल रूप से भारत में ही पाई जाती थी, लेकिन अब इसका उत्पादन दुनिया के अन्य देशों में भी होने लगा है।

शतावरी को यूज करने का सबसे बढ़िया और हैल्थी तरीका इसका चूर्ण है। ज़्यादातर चिकित्सक इसके फ़ायदों के लिए शतावरी चूर्ण का ही इस्तेमाल करते हैं।

शतावरी चूर्ण से वजन कैसे बढ़ता है?

kya shatavari churna se vajan badhta hai

शतावरी चूर्ण पोषक तत्वों का भंडार है। आप इस चूर्ण का सेवन कर अपना वजन प्राकृतिक तरीके से बढ़ा सकते हैं। हर 100 ग्राम शतावरी चूर्ण में निम्नलिखित पोषक तत्व होते हैं, जो इस प्रकार वजन बढ़ाने के लिए फायदेमंद है।

  • कैलोरी: 100 ग्राम शतावरी चूर्ण में 20,000 कैलोरी होती है। कैलोरी हमारे शरीर में भोजन से प्राप्त होती है। जब हम उपयोग की जाने वाली कैलोरी की मात्रा से ज्यादा सेवन करते हैं, तो हमारा वजन बढ़ने लगता है।
  • आहार फाइबर: इसमें 2,100 मिलीग्राम फाइबर होता है। फाइबर हमारे शरीर की स्वस्थ पाचन प्रक्रिया के लिए बहुत आवश्यक है। जब आप प्राप्त मात्रा में फाइबर का सेवन करते हैं, तो आपका वजन संतुलित होता है।
  • कार्बोहाइड्रेट: इसमें 3,380 मिलीग्राम कार्बोहाइड्रेट पाया जाता है। कार्बोहाइड्रेट शरीर को ऊर्जा प्रदान करता है। इसलिए जब आपका शरीर प्राप्त मात्रा में एनर्जी प्रोड्यूस करता है, तो इससे वजन बढ़ने में आसानी होती है।
  • प्रोटीन: इसमें 2,200 मिलीग्राम प्रोटीन पाया जाता है। प्रोटीन वजन बढ़ाने के लिए सबसे आवश्यक पोषक तत्वों में से एक है। इस प्रकार शतावरी चूर्ण शरीर को प्राप्त मात्रा में प्रोटीन प्रोवाइड करवाती है।
  • विटामिन C: इसमें 5.6 मिलीग्राम विटामिन C पाया जाता है। यह हमारे शरीर में फ्री रेडिकल्स के निर्माण को रोकता है। जिसका हमने ऊपर जिक्र किया है, कि फ्री रेडिकल्स हमारे शरीर को कैसे नुकसान पहुंचाते हैं।
  • विटामिन ई: शतावरी चूर्ण की 100 ग्राम वैल्यू में 1.13 मिलीग्राम विटामिन E पाया जाता है। यह एक फैट में घुलनशील विटामिन है। यह हमारे दिमाग, स्किन और आँखों के लिए बहुत अच्छा है।
  • विटामिन K: इसमें 0.0416 मिलीग्राम विटामिन K पाया जाता है। विटामिन K रक्त के थक्के जमने और हड्डियों के निर्माण के लिए आवश्यक विभिन्न प्रोटीन बनाने में मदद करता है। प्रोथ्रोम्बिन एक विटामिन K-निर्भर प्रोटीन है जो सीधे रक्त के थक्के में शामिल होता है। ऑस्टियोकैल्सिन एक अन्य प्रोटीन है जिसे स्वस्थ हड्डी के ऊतकों का उत्पादन करने के लिए विटामिन K की आवश्यकता होती है।
  • फोलेट: इसमें 0.052 मिलीग्राम फोलेट पाया जाता है। इसका नाम विटामिन B9 है। यह शरीर में स्वस्थ लाल रक्त कोशिकाओं का निर्माण करता है।
  • नियासिन: इसमें 0.978 मिलीग्राम नियासिन पाया जाता है। नियासिन एक B विटामिन है जो आपके शरीर द्वारा भोजन को ऊर्जा में बदलने के लिए काम करता है। यह आपके तंत्रिका तंत्र, पाचन तंत्र और त्वचा को स्वस्थ रखने में मदद करता है।

इसके अलावा इसमें थायमिन: 0.143 मिलीग्राम, सेलेनियम: 0.0023 मिलीग्राम, जिंक: 0.54 मिलीग्राम, आयरन: 1.14 मिलीग्राम, मैंगनीज: 0.158 मिलीग्राम, कैल्शियम: 24 मिलीग्राम, अल्फा-कैरोटीन: 0.009 मिलीग्राम, बीटा कैरोटीन: 0.449 मिलीग्राम, ल्यूटिन-ज़ेक्सैंथिन: 0.719 मिलीग्राम जैसे पोषक तत्व भी पाए जाते हैं।

ये सभी पोषक तत्व हमारे शरीर को बहुत सारे हैल्थ बेनेफिट्स देने के साथ-साथ वजन बढ़ाने में भी मदद करते हैं।

वजन बढ़ाने के लिए शतावरी चूर्ण के फायदे

vajan badhane ke liye shatavari churna ke fayde

शतावरी चूर्ण अपने कई औषधीय और पोषण गुणों के साथ हैल्थ बेनेफिट्स का एक बंडल है। शतावरी चूर्ण वजन बढ़ाने के लिए बेहतरीन मानी जाती है। आइए शतावरी चूर्ण के स्वास्थ्य लाभों पर नजर डालते हैं, जो वजन बढ़ाने में आपकी मदद कर सकते हैं।

1. एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर

हमारे शरीर में लगातार विषाक्त पदार्थों का निर्माण होता है, जिससे पाचन में गड़बड़ी होती है। शतावरी पाचन में सुधार के लिए सबसे अच्छी निवारक जड़ी बूटी है। इसमें एंटीऑक्सीडेंट होते हैं जो शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालते हैं।

यह आपके शरीर की कोशिकाओं को फ्री रेडिकल्स से बचाता है। शतावरी की जड़ें तनाव और चिंता को कम करती हैं। इस प्रकार जब आपका पाचन अच्छा होता है, तो वजन भी लगातार बढ़ता रहता है।

2. एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण

शतावरी चूर्ण में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं, जो आपको विभिन्न संक्रमणों से बचाते हैं और पाचन तंत्र को स्वस्थ रखते हैं। इस प्रकार जब आप शतावरी चूर्ण का सेवन करते हैं, तो कुछ ही दिन में आपका वजन प्राकृतिक तरीके से बढ़ने लगेगा।

3. इम्युनिटी बूस्टर

शतावरी चूर्ण एक इम्यूनिटी बूस्टर के रूप में एक प्रसिद्ध जड़ी बूटी है। यह शरीर में खतरनाक कोशिकाओं को खत्म करने में सहायता करता है। साथ ही यह विभिन्न जानलेवा संक्रमणों और बीमारियों के खिलाफ इम्यून सिस्टम को बढ़ाता है।

एक बार जब आपकी इम्यूनिटी मजबूत हो जाती है, तो आप शतावरी के उपयोग से स्वस्थ वजन प्राप्त कर सकते हैं। वजन बढ़ाने के अलावा शतावरी चूर्ण हमारे शरीर को कई अन्य लाभ भी प्रदान करती है।

4. खांसी निवारक

शतावरी एक प्राकृतिक जड़ी बूटी है जो आपके श्वसन तंत्र को स्वस्थ रखती है। शतावरी चूर्ण म्यूकोसल अस्तर को मजबूत कर खांसी से राहत दिलाने में मदद करता है।

शतावरी की जड़ों में मूत्रवर्धक गुण होते हैं, यह शरीर से अपशिष्ट और विषाक्त पदार्थों को मूत्र के माध्यम से बाहर निकाल देता है। यह विषाक्त पदार्थों के निर्माण को रोकता है और यह गुण वजन बढ़ाने में काफी लाभदायक है।

5. प्रोबायोटिक गुण

ये जड़ी-बूटियां आंत के बैक्टीरिया को कंट्रोल करने में मदद करती हैं। जिससे भूख बढ़ती हैं। यह दस्त को ठीक करने में मदद करता है। जब यह सभी प्रक्रियाएँ होती है, तो हमारा वजन ऑटोमैटिक रूप से बढ़ता है।

शतावरी एंटी-एंग्जायटी गुण वाली एक उत्तम जड़ी-बूटी है। यह तनाव और चिंता को कम करने में आपकी मदद करती है। इसका चूर्ण आपके तंत्रिका तंत्र को शांत और तनाव मुक्त रखता है जिससे वजन बढ़ने लगता है।

जब हमा तनाव मुक्त होते हैं, तो हमारा वजन स्वस्थ रूप से बढ़ने लगता है। इस गुण के साथ-साथ शतावरी वजन बढ़ाने के लिए सबसे बेहतरीन आयुर्वेदिक जड़ी बूटी है।

6. एंटी-अल्सर गुण

शतावरी चूर्ण में अल्सर रोधी गुण होते हैं। यह आपको पेट, अन्नप्रणाली और आंत में अल्सर बनने से रोकता है। इस प्रकार जब आपका पेट स्वस्थ होगा तो आपको अपने भोजन से अधिक पोषक तत्व प्राप्त होंगे।

एंटी-एंग्जाइटी प्रॉपर्टी के साथ-साथ इसमें एंटीडिप्रेसेंट प्रॉपर्टी होती है। यह डिप्रेशन की समस्याओं या अन्य मनोवैज्ञानिक विकारों के इलाज के लिए उपयोगी है।

7. एंटी-एजिंग गुण

शतावरी चूर्ण में एंटी-एजिंग गुण होते हैं जो आपकी त्वचा को फ्री रेडिकल्स से बचाते हैं। शतावरी कोलेजन के टूटने को रोकता है क्योंकि कोलेजन स्किन की लोच बनाए रखता है और झुर्रियों को रोकता है।

ऐसी कई स्वास्थ्य समस्याएं हैं जो आपके वजन बढ़ने में बाधा बन सकती हैं। हाइपरटेंशन उनमें से एक है। शतावरी चूर्ण ब्लड प्रेशर को सामान्य सीमा में बनाए रखने और अन्य हैल्थ प्रॉबलम्स को रोकने के लिए एक आवश्यक चूर्ण है।

वजन बढ़ाने के लिए शतावरी चूर्ण का उपयोग कैसे करें?

Vajan badhane ke liye shatavari churna ka upyog kaise kare

शतावरी पाउडर को पारंपरिक रूप से कमरे के तापमान के पानी में मिलाकर इस्तेमाल किया जाता है। शतावरी पाउडर का स्वाद मीठा और कुछ कड़वा होता है। यदि आपको स्वाद पसंद नहीं है, तो इसे दूध या जूस मिलाकर पतला करें।

आप इसका इस्तेमाल स्मूदी बनाने के लिए भी कर सकते हैं। वैज्ञानिक रूप से इसकी निर्धारित खुराक सीमा नहीं है। इसके बजाय, खुराक आपकी उम्र, वजन, स्वास्थ्य और अन्य बातों के आधार पर निर्धारित की जाती है।

अगर आप अपना वजन बढ़ाना चाहते हैं, तो आप शतावरी चूर्ण को सुबह दूध में मिलाकर भी सेवन कर सकते हैं। इसके अलावा अश्वगंधा और शतावरी चूर्ण को मिक्स कर सुबह खाली पेट सेवन करने से बहुत फायदा होता है।

इनको भी जरुर पढ़े:

निष्कर्ष:

तो मित्रों ये थी हमारी पोस्ट शतावरी चूर्ण से वजन कैसे बढ़ाएं, हम आशा करते है की इस आर्टिकल को पूरा पढ़ने के बाद आपको वजन बढ़ाने के लिए शतावरी चूर्ण का उपयोग कैसे करें इसके बारे में पूरी जानकारी मिल गयी होगी.

यदि आपको इस पोस्ट में दी गयी जानकारी हेल्पफुल लगी तो इसको शेयर अवश्य करें ताकि अधिक से अधिक लोग शतावरी चूर्ण से अपना वजन बढ़ा सके.

इसके अलावा यदि आपको वेट बढ़ाने से रिलेटेड कोई भी सवाल हमसे पूछना है तो उसको कमेंट में हमसे जरुर पूछे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

X