डायनासोर का अंत कैसे हुआ था | डायनासोर कैसे मरे थे

डायनासोर सरीसृपों (reptiles) का एक समूह था, जिसने 14 करोड़ से अधिक वर्षों (दुनिया के कुछ हिस्सों में 16 करोड़ से अधिक वर्षों) तक धरती पर राज किया।

इस दौरान भयानक विशाल स्पिनोसॉरस से लेकर मुर्गे के आकार के माइक्रोरैप्टर जीव विकसित हुए। यह विभिन्न पारिस्थितिक तंत्रों (ecosystems) में जीवित रहने में सक्षम थे।

ये विशाल छिपकलियाँ अब धरती पर नहीं है, इस कारण हम इंसानों को पनपने का मौका मिला है। अगर कहीं आज डायनासोर जिंदा होते, तो शायद हमारा वजूद न होता।

आज यह हमारे बीच नहीं है, तो हम इनके जीवाश्मों से इनके बारे में पता लगाते हैं। वैज्ञानिक डायनासोरों को एवियन और गैर-एवियन में विभाजित करते हैं। आज हमारे बीच मौजूद पक्षी एवियन डायनासोर के वंशज है।

एवियन और गैर-एवियन दोनों डायनासोर लगभग 24 करोड़ वर्ष पहले सरीसृपों के एक अधिक प्राचीन समूह से विकसित हुए थे। जो लगभग 6.5 करोड़ वर्ष पहले बड़े पैमाने पर विलुप्त हो गए थे। मेसोज़ोइक युग में डायनासोर पृथ्वी के प्रत्येक कोने में पाए जाते थे।

पहला डायनासोर कौन सा था?

dinosaur ka ant kaise hua tha

डायनासोर की उत्पत्ति लगभग 23 करोड़ वर्ष पहले के आसपास की है। डायनासोर आर्कोसॉर नामक सरीसृपों के एक समूह से विकसित हुए थे।

सबसे पुरानी प्रजातियों में कुछ इस प्रकार हैं- जिनमें छोटे मांसाहारी जैसे ईराप्टर, बड़े हेरेरासॉरस और सर्वाहारी जैसे पैनफैगिया शामिल हैं।

लेकिन पहले डायनासोर के लिए कोई विशेष सबूत नहीं है, जो कि आर्कोसॉर से विकसित हुआ था। प्रारंभिक डायनासोर अपने पीछे के पैरों पर चलते थे, लेकिन उनके सभी वंशज दो पैरों वाले नहीं थे।

डायनासोर की कितनी प्रजातियां थी?

जीवाश्म रिकॉर्ड से लगभग एक हजार गैर-एवियन डायनासोर की पहचान की गई है, लेकिन एक गणितीय मॉडल का अनुमान है कि मेसोज़ोइक युग के दौरान डायनासोर की लगभग 2,000 प्रजातियां मौजूद थीं।

जिनमें लगभग 500 ऑर्निथिशियन, 500 सॉरोपोड और 1,000 से अधिक विविध थेरोपोड थे।

डायनासोर इतने बड़े कैसे हो गए थे?

कुछ डायनासोर पृथ्वी पर चलने वाले अब तक के सबसे भारी जानवर थे। जो सबसे बड़े भूमि स्तनधारियों की तुलना में बहुत बड़े आकार के थे।

‘टाइटनोसॉर’ के नाम से जाने जाने वाले विशालकाय सॉरोपोड्स का वजन लगभग 50,000 किलोग्राम था, उदाहरण के लिए 10 हाथियों के समान द्रव्यमान।

एक माइक्रोस्कोप के तहत जीवाश्म की हड्डी के क्रॉस-सेक्शन को देखने से कुछ जानकारी मिली है कि कैसे फिजियोलॉजी और बायोमैकेनिक्स ने डायनासोर को बड़ा होने दिया।

स्तनधारियों की तरह, डायनासोर की हड्डियों को रक्त वाहिकाओं से भरा हुआ था, जिसने तेजी से विकास के लिए आवश्यक पोषक तत्व प्रदान करने में मदद की थी।

जुवेनाइल सॉरोपोड्स तेजी से बढ़े और उनकी हड्डियाँ बाहरी परतों में कॉम्पैक्ट हो गईं। एक अंडे से निकलने के बाद, एक युवा 10 किग्रा सॉरोपॉड केवल एक दशक के बाद 10 टन का वयस्क जानवर बन जाता था।

ऐसा करने में किसी भी जानवर को 2 सदियाँ लग जाएगी।

सबसे बड़ा और सबसे छोटा डायनासोर?

dinosaur ke prajati

कुछ डायनासोर विशाल थे और कुछ छोटे। आज तक का सबसे छोटा डायनासोर एक एवियन डायनासोर है। विलुप्त हो चुके गैर-एवियन डायनासोर में सबसे छोटा एंबोप्टेरिक्स लॉन्गिब्राचियम था। जिसकी लंबाई 13 इंच (32 सेमी) है और इसका वजन लगभग 11 औंस (306 ग्राम) था।

टाइटेनोसॉर सबसे बड़े डायनासोर थे। जीवाश्म विज्ञानी शायद ही कभी एक संपूर्ण कंकाल को खोज पाते हैं, और कोमल ऊतक, जैसे कि अंग और मांसपेशियां वक्त के साथ खत्म हो जाती है। इसलिए डायनासोर के द्रव्यमान को निर्धारित करना चुनौतीपूर्ण है।

हालांकि, दुनिया के सबसे बड़े डायनासोर के खिताब के दावेदारों में अर्जेंटीनासॉरस शामिल है, जिसका वजन 110 टन (100 मीट्रिक टन) तक था।

अर्जेंटीना का एक अनाम टाइटानोसॉर जिसका वजन 69 टन (63 मीट्रिक टन) से ऊपर था और पेटागोटिटन, जिसका वजन भी 69 टन था।

सबसे लंबा डायनासोर सुपरसॉरस था, एक जुरासिक सॉरोपॉड जो कम से कम 128 फीट (39 मीटर) लंबा और लंबाई में 137 फीट (42 मीटर) से भी ज्यादा था।

एक अन्य दावेदार डिप्लोडोकस है, जो एक लंबा और पतला जुरासिक सॉरोपॉड है जो 108 फीट (33 मीटर) की लंबाई तक पहुंच जाता था।

डायनासोर कैसे मरें थे?

dinosaur kaise mare

कोई भी निश्चित रूप से नहीं जानता कि डायनासोर कैसे विलुप्त हो गए। हालांकि वैज्ञानिकों ने दशकों से उन संभावित घटनाओं के बारे में अनुमान लगाया है, जिनके कारण डायनासोर मर गए थे। ये घटनाएँ क्षुद्रग्रहों, ज्वालामुखियों और जलवायु परिवर्तन के कारण हो सकती हैं।

अधिक लोकप्रिय या प्रसिद्ध डायनासोरों के विलुप्त होने के सिद्धांतों में से एक सबसे ज्यादा प्रभावशाली एक क्षुद्रग्रह का पृथ्वी से टकराना है।

जिसका पृथ्वी पर विनाशकारी प्रभाव पड़ा और क्रेटेशियस युग के अंत में बड़े पैमाने पर जीवों को खत्म करने का कारण बना।

क्रिटेशियस पेलियोजीन (Cretaceous Paleogene) विलुप्त होने की घटना (जिसे Cretaceous–Tertiary विलुप्त होने के रूप में भी जाना जाता है) लगभग 66 मिलियन वर्ष पहले पृथ्वी पर तीन-चौथाई पौधों और जानवरों की प्रजातियों को सामूहिक रूप से नष्ट कर दिया था।

कुछ एक्टोथर्मिक प्रजातियों जैसे समुद्री कछुए और मगरमच्छ के अलावा 25 किलोग्राम (55 पाउंड) से अधिक वजन वाले कोई भी टेट्रापोड नहीं बचे। यह घटना क्रेटेशियस काल का अंत थी और इसके साथ मेसोज़ोइक और सेनोज़ोइक युग की शुरुआत हुई। जो आज भी जारी है।

आज से तकरीबन 6.6 करोड़ साल पहले, मेक्सिको के युकाटन प्रायद्वीप के तट से दूर एक पहाड़ के आकार का क्षुद्रग्रह पृथ्वी से टकराया। जिसने उस जगह पूरी तरह से डायनासोर को खत्म कर दिया और उनके विलुप्त होने की ओर अग्रसर हो गया।

यह टक्कर प्रलयंकारी थी, जिससे समुद्र में सूनामी को जन्म दिया। इस सुनामी ने समुद्र तट और भूमि के विशाल क्षेत्रों को अपने अंदर समाहित कर लिया, जो शायद पूरे विश्व में फैल गई थी। टक्कर के प्रभाव ने भारी मात्रा में धूल और वाष्पीकृत चट्टान को हवा में उड़ा दिया।

इसके परिणामस्वरूप वायुमंडल में धूल और राख़ जमा हो गई और अगले कई हजारों वर्षों तक सूर्य का प्रकाश पृथ्वी की सतह पर नहीं पहुँच पाया। सबसे ज्यादा विनाशकरी तो यह था कि वो चट्टानें सल्फर से बनी हुई थी।

जिससे वायुमंडल में सल्फ्यूरिक एसिड एरोसोल का भारी मात्रा में निर्माण हुआ। फिर ये केमिकल वापिस पृथ्वी पर बरसते और महासागरों को अम्लीकृत करते।

डायनासोर के विलुप्त होने के सिद्धांत

प्राचीन काल में चीनी विद्वानों द्वारा पहली बार डायनासोर हड्डियों की खोज की गई थी। यूरोप में पहली दर्ज की गई खोज 1677 की थी। 1842 तक यह महसूस किया गया था कि प्रागैतिहासिक सरीसृप एक बार पृथ्वी पर निवास कर चुके थे। इस समूह का वर्णन करने के लिए उन्होंने उन जीवों का डायनासोरिया नाम दिया था।

पुरापाषाण युग के अंत की ओर सरीसृप पहली बार लगभग 32 करोड़ वर्ष पहले दिखाई दिए। वे मेसोज़ोइक युग के दौरान फले-फूले, जिसे सरीसृपों का युग भी कहा जाता है। इस युग को आगे निम्नलिखित अवधियों में विभाजित किया गया है:

  • ट्राइसिक (लगभग 25-20 करोड़ वर्ष पहले)
  • जुरासिक (लगभग 20–14.5 करोड़ वर्ष पहले)
  • क्रेटेशियस (लगभग 14.5–6.5 करोड़ वर्ष पहले)

डायनासोर ने लगभग 15 करोड़ वर्षों तक पृथ्वी पर शासन किया। ये लेट ट्राइसिक, जुरासिक और क्रेटेशियस काल में भली-भांति फूल रहे थे।

पृथ्वी के इतिहास में सबसे बड़े सामूहिक विलुप्त होने में से एक क्रेटेशियस काल के अंत में हुआ। इसे के-टी विलुप्त होने के रूप में जाना जाता है।

डायनासोर, टेरोसॉर और बड़े समुद्री सरीसृप सहित कई प्रजातियां लगभग रातोंरात गायब हो गईं। आज डायनासोर के एकमात्र जीवित वंशज पक्षी हैं। डायनासोर के विलुप्त होने के लिए कई सिद्धांत सुझाए गए हैं। इनमें से कुछ इस प्रकार है-

  • जहरीली ज्वालामुखी गैसें और धूल
  • क्षुद्रग्रह प्रभाव
  • जलवायु परिवर्तन

कुछ वैज्ञानिकों ने इन सभी कारकों को इनके खत्म होने का कारण माना है।

1. ज्वालामुखी

क्या अतीत में विशेष रूप से डायनासोर के विलुप्त होने के समय ज्वालामुखी गतिविधि अधिक आम थी? क्या जहरीली ज्वालामुखी गैसें पृथ्वी की सतह पर जमा हो गईं, जिससे डायनासोरों को हवा के रूप में जहर मिला? इन सवालों के जवाब के लिए हमें पृथ्वी की संरचना और इतिहास के बारे में कुछ समझना होगा।

पृथ्वी बहुत पुरानी है। यह लगभग 460 करोड़ वर्ष पहले बनी थी। वैज्ञानिकों का मानना ​​है कि इसकी शुरुआत गर्म धूल, चट्टान और गैस के एक गोले के रूप में हुई थी, जिसे ठंडा होने और सख्त होने में लाखों साल लगे।

इससे ज्वालामुखी से गर्म लावा और ज्वालामुखी की राख निकली। इस दौरान वातावरण कार्बन डाइऑक्साइड, हाइड्रोजन, अमोनिया, मीथेन और कुछ सल्फर डाइऑक्साइड से बना था। जिसमें ऑक्सीजन कम थी।

पृथ्वी की पपड़ी एक सतत परत नहीं है, बल्कि कई प्लेटों से बनी है जो नीचे के मेंटल पर तैरती हैं। 55 से 35 करोड़ वर्ष पूर्व के बीच, सभी महाद्वीप एक विशाल भूभाग में एक साथ जुड़े हुए थे जिसे पैंजिया कहा जाता है।

धीरे-धीरे समय के साथ प्लेटें अलग होने लगीं। पैंजिया दो सुपर-महाद्वीपों में विभाजित हुआ:

१. लौरेशिया- उत्तरी अमेरिका, ग्रीनलैंड, उत्तरी और मध्य यूरोप और अधिकांश एशिया से बना एक उत्तरी भूभाग।
२. गोंडवानालैंड- एक दक्षिणी भूभाग जिसमें ऑस्ट्रेलिया, अफ्रीका, मेडागास्कर, दक्षिण अमेरिका, अंटार्कटिक, भारत और दक्षिण एशिया के कुछ हिस्से शामिल थे।

13 करोड़ वर्ष पहले तक गोंडवानालैंड टूटना शुरू हो गया था। इसने भूभाग को दो खंडों में विभाजित किया, एक पश्चिमी आधा अफ्रीका और दक्षिण अमेरिका बना और एक पूर्वी आधा अंटार्कटिका और ऑस्ट्रेलिया बना।

7 करोड़ वर्ष तक अंटार्कटिक, अफ्रीका और भारत के बीच विस्तृत महासागर बन चुके थे। ऑस्ट्रेलिया न्यूजीलैंड से अलग हुआ। ऑस्ट्रेलिया और अंटार्कटिका के दक्षिणी किनारे के बीच दरार हुई और बाद वाला दक्षिणी ध्रुव की ओर चला गया।

ट्रायसिक (20 करोड़ वर्ष पहले) के अंत तक ये सुपर-महाद्वीप अलग हो गए थे। प्रारंभिक क्रेटेशियस काल (13 करोड़ वर्ष पहले) तक गोंडवानालैंड टूटना शुरू हो गया था।

आखिरकार ऑस्ट्रेलिया, जो इंडो-ऑस्ट्रेलियाई प्लेट पर बैठता है, अंटार्कटिका से अलग हो गया। यह प्लेट अब प्रति वर्ष 5-6 सेंटीमीटर की गति से उत्तर-पूर्वी दिशा में घूम रही है।

ये महाद्वीपीय प्लेटें धीरे-धीरे चलती हैं, कभी-कभी एक-दूसरे से टकराती हैं या एक-दूसरे के ऊपर या नीचे खिसकती हैं। प्लेटों के बीच की सीमाएँ अक्सर भूवैज्ञानिक गतिविधि के स्थल होते हैं।

कभी-कभी दबाव बन जाता है जिससे कमजोर बिंदुओं पर विराम लग जाता है जिसे fault कहा जाता है। इसके परिणामस्वरूप पृथ्वी की सतह पर ज्वालामुखी विस्फोट या कंपन होते हैं। इन्हें भूकंप कहा जाता है।

जैसे-जैसे महाद्वीपीय प्लेटें हिलती गईं। उस समय अत्यधिक ज्वालामुखी विस्फोट और भूकंप आने लगे। इसके परिणामस्वरूप धीरे-धीरे डायनासोर खत्म होने लगे।

उस समय मेडागास्कर के पास भारत का अपना भूभाग था। इस दौरान दक्कन के ज्वालामुखी विस्फोट होने लगे और उससे लगभग 1.3 मिलियन क्यूबिक किलोमीटर पिघली हुई चट्टान और मलबा निकला।

शोधकर्ताओं ने डेक्कन लावा प्रवाह में एम्बेडेड क्रिस्टल की उम्र निर्धारित की। ये दिखाते हैं कि अधिकांश विस्फोट एस्ट्रोइड की घटना से लगभग 2,50,000 साल पहले शुरू हुए थे।

और वे इसके लगभग 5,00,000 वर्ष बाद तक जारी रहे। इसका मतलब है कि डायनासोरों के विलुप्त होने का यह एक बड़ा कारण था।

“डेक्कन ज्वालामुखी पृथ्वी पर जीवन के लिए प्रभाव से कहीं अधिक खतरनाक था”। पर्यावरण में अधिकांश पारा ज्वालामुखियों से उत्पन्न हुआ है।

बड़े विस्फोट से इस तत्व की भारी मात्रा निकलती है। डेक्कन विस्फोटों ने कुल 99 मिलियन और 178 मिलियन मीट्रिक टन पारा वायुमंडल में छोड़ा। जो एस्ट्रोइड की घटना से निकलने वाले कुल पारे की तुलना में बहुत ज्यादा था।

उस पारे ने अपनी छाप छोड़ी। यह दक्षिण-पश्चिमी फ़्रांस और अन्य जगहों पर दिखाई देने लगा। डेक्कन विस्फोटों से जारी कार्बन डाइऑक्साइड ने कुछ जीवों के लिए महासागरों को बहुत अम्लीय बना दिया।

इस समय के दौरान इन क्रिटर्स के लिए जीवन रक्षा बहुत मुश्किल हो रही थी। प्लैंकटन महासागर पारिस्थितिकी तंत्र की नींव बनाते हैं, जो इस घटना के साथ खत्म होने लगे।

उनकी गिरावट ने पूरे खाद्य जाल को झकझोर दिया। इसी तरह की प्रवृत्ति आज हो रही है क्योंकि समुद्री जल जीवाश्म ईंधन के जलने से कार्बन डाइऑक्साइड को सोख लेता है। और जैसे-जैसे पानी अधिक अम्लीय होता गया, जानवरों को जीवन जीने में अधिक ऊर्जा लगती थी।

2. एस्ट्रोइड से टक्कर

क्षुद्रग्रह बड़े, चट्टानी पिंड हैं जो सूर्य की परिक्रमा करते हैं। इनका व्यास कुछ से लेकर सैकड़ों मीटर तक होता है। क्षुद्रग्रह का कोई भी टुकड़ा जो पृथ्वी पर गिरने से बच जाता है, उल्कापिंड के रूप में जाना जाता है।

अल्वारेज़ परिकल्पना शुरू में विवादास्पद थी, लेकिन अब यह मेसोज़ोइक युग के अंत में बड़े पैमाने पर विलुप्त होने के लिए सबसे व्यापक रूप से स्वीकृत सिद्धांत है।

आज हमने एस्ट्रोइड की टक्कर से बनने वाले क्रेटर की पहचान कर ली है। यह अब मेक्सिको के तट से दूर समुद्र तल में दब गया है। इस स्थल को चिक्सुलब क्रेटर के रूप में जाना जाता है। यह मेक्सिको में युकाटन प्रायद्वीप पर स्थित है।

माना जाता है कि पृथ्वी से टकराने वाला क्षुद्रग्रह 10 से 15 किलोमीटर चौड़ा था। लेकिन इसकी टक्कर के वेग ने 150 किलोमीटर व्यास वाले एक बहुत बड़े गड्ढे का निर्माण किया, जो ग्रह पर दूसरा सबसे बड़ा गड्ढा है।

इस टक्कर से अरबों टन मलबे को आकाश में फेंका। टकराने से पहले इस एस्ट्रोइड की स्पीड 64,000 किलोमीटर/घंटे से अधिक थी। इस टक्कर ने सबसे शक्तिशाली परमाणु बम की तुलना में लगभग 20 लाख गुना अधिक ऊर्जा निष्कासित की।

साथ ही भयानक टक्कर से समुद्र में विशाल लहरों ने जन्म लिया। जिसने कुछ ही समय में आसपास के क्षेत्र में भयानक सुनामी का रूप धारण कर लिया।

इस टक्कर से कई जगह आग भी लगी, क्योंकि इस प्रभाव से निकलने वाली गर्मी ने पृथ्वी की सतह को झुलसा दिया था। यह सब आज से 6.6 करोड़ वर्ष पहले हुआ था।

डायनासोर सहित पृथ्वी के लगभग 75% जानवर एक ही समय में अचानक खत्म हो गए। चूंकि एस्ट्रोइड उच्च वेग से टकराया।

जिसने एक विशाल गड्ढा बना दिया और पल भर में सबकुछ खत्म हो गया। एक विशाल विस्फोट की लहर और हीटवेव निकली और इसने भारी मात्रा में सामग्री को वायुमंडल में फेंक दिया।

इसने दुनिया भर के वायुमंडल में मलबा फेंका। इसने पृथ्वी की सतह तक पहुंचने वाले प्रकाश की मात्रा को कम कर दिया। सूर्य से प्रकाश के बिना पृथ्वी अंधेरे में डूब गई।

इससे प्रकाश संश्लेषण की प्रक्रिया पर प्रभाव पड़ा, जीससे पौधों की वृद्धि पर प्रभाव पड़ा। जिसके परिणामस्वरूप धरती का तापमान अचानक से कम हो गया।

समय के साथ ecosystem पूरी तरह से खत्म हो गया। पौधों के जीवन में कमी का शाकाहारी जीवों की जीवित रहने की क्षमता पर बहुत अधिक प्रभाव पड़ा।

जिसका अर्थ था कि मांसाहारी जीवों के लिए भी भोजन की कमी होने लगी। इससे सभी जीवित चीजें किसी न किसी तरह से प्रभावित हुई होंगी, दोनों जमीन पर और समुद्र में।

यह एक विशाल घटना थी जिसने पृथ्वी पर सभी जीवों को प्रभावित किया, सूक्ष्मजीवों से लेकर डायनासोर तक। उनमें से अम्मोनी, कुछ सूक्ष्म प्लवक और बड़े समुद्री सरीसृप सभी मर गए।

3. वैश्विक जलवायु परिवर्तन

डायनासोर के अंत का दोष केवल क्षुद्रग्रह पर नहीं लगा सकते। इसकी क्रैश लैंडिंग से पहले, पृथ्वी जलवायु परिवर्तन की समस्या का अनुभव कर रही थी।

यह हमारे ग्रह पर जीवन के लिए चीजों को कठिन बना रहा था। आज के मध्य भारत में पर्याप्त ज्वालामुखी विस्फोट हो रहे थे। ये विस्फोट लगातार धरती पर गर्मी उत्पन्न कर रहे थे, जिसके परिणामस्वरूप वैश्विक जलवायु परिवर्तन होने लगा।

इस क्षेत्र में दो मिलियन वर्षों से भारी मात्रा में ज्वालामुखी गतिविधि चल रही थी, जो वातावरण में गैसें उगल रही थीं और वैश्विक जलवायु पर इसका बड़ा प्रभाव पड़ा था।

इस समय के दौरान दीर्घकालिक परिवर्तन भी थे। क्योंकि महाद्वीप चारों ओर बह रहे थे और एक दूसरे से अलग हो रहे थे। जिससे बड़े महासागरों का निर्माण हो रहा था।

इसने दुनिया भर में महासागर और वातावरण के पैटर्न को बदल दिया। इसका जलवायु और वनस्पति पर भी गहरा प्रभाव पड़ा।

क्या सभी डायनासोर विलुप्त हो गए थे?

dinosaur ki haddiyan

बिल्कुल नहीं, क्योंकि आज के पक्षी जीवित डायनासोर हैं। पक्षियों को अलग करने के प्रागैतिहासिक सरीसृपों से, विलुप्त समूहों को ‘गैर-एवियन डायनासोर’ के रूप में जाना जाता है। ये Triassic, Jurassic और Cretaceous युगों में प्रमुख स्थलीय कशेरुकी थे।

चूँकि पाँचवाँ विलोपन क्रिटेशियस (K) और उसके बाद के पुरापाषाण काल (Pg) के बीच की सीमा पर हुआ, इसलिए इसे एंड-क्रेटेशियस या K-Pg घटना भी कहा जाता है।

अन्य सरीसृपों को आमतौर पर डायनासोर माना जाता है, जो इस घटना के दौरान विलुप्त हो गए। हालांकि वे डायनासोर नहीं थे, जिनमें पंखों वाले पेटरोसॉर और जलीय प्लेसीओसॉर और मोसासौर शामिल हैं।

इसको भी जरुर पढ़ें:

निष्कर्ष:

तो दोस्तों ये था डायनासोर का अंत कैसे हुआ था, हम उम्मीद करते है की इस पोस्ट को पढ़ने के बाद आपको पता चल गया होगा की डायनासोर कैसे मरे थे.

पोस्ट आपको अच्छी लगी तो प्लीज इसको शेयर जरुर करे ताकि अदिक से अधिक लोगो को पूरी जानकारी मिल पाए.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

X