चाय की दुकान कैसे खोलें और करोड़पति बने

स्पेशल चाय की दुकानें अब हर जगह बन रही हैं, और आजकल कॉफी की दुकानों के रूप में लोकप्रिय हैं। अपनी खुद की चाय की दुकान शुरू करने के लिए, आपको सबसे पहले यह तय करना होगा कि आप किस प्रकार की चाय बेचना चाहते हैं।

चाय की खेती और मनुष्य द्वारा सदियों से इसका उपयोग किया जाता रहा है, ऐसा लगता है कि पिछले कुछ वर्षों में इसकी लोकप्रियता में जबर्दस्त वृद्धि हुई है। चाय पीने के स्वास्थ्यवर्धक लाभों को हर कोई जानता है, और यही कारण है कि आजकल इसकी मार्केटिंग अच्छी तरह से हो रही है।

चाय बनाने के कई पहलू हैं। सबसे पहले चाय की खेती होती है, उसमें रोपण, कटाई और सम्मिश्रण शामिल है। चाय की पत्तियों के सम्मिश्रण, सुखाने, किण्वन, हीटिंग, या ऑक्सीकरण के अनुसार वर्गीकृत किया जाता है।

जैसे काली चाय (जिसे लाल चाय भी कहा जाता है), हरी चाय, हर्बल चाय (जड़ी-बूटियों और फलों का अर्क), कुकिचा (सर्दियों की चाय), दूध की चाय (दूध और स्वीटनर के साथ), ऊलोंग (नीली या नीली-हरी चाय के रूप में भी जानी जाती है), किण्वित चाय, सफेद चाय और पीली चाय।

एक बार मिश्रण तैयार हो जाने के बाद, सुखी चाय को आमतौर पर चाय की दुकानों में भेज दिया जाता है। इसके बाद सुखी चाय की मदद से पीने के लिए चाय तैयार की जाती है। चाय का मार्केट भारत में तेजी से उभरने वाला मार्केट है।

भारत में चाय का महत्व

chai ki dukan kholne ki jankari

चाय भारत का सबसे आम पिए जाने वाला पेय पदार्थ है। अंग्रेजों द्वारा पेश की गई चाय पिछले कुछ वर्षों में भारतीय मूल की हो गई है। यह गर्म पेय एक नियमित मनोरंजनकर्ता, जीने का एक स्रोत, एक ताज़ा पेय, चर्चा का एक बहाना, गपशप संस्कृति का एक हिस्सा और भारत में एक घरेलू परंपरा है।

यह देश के सामाजिक-सांस्कृतिक और सामाजिक-आर्थिक अस्तित्व से अविभाज्य है। पूरे भारत में मेहमानों का भगवान की तरह आदर सत्कार किया जाता है। उन्हें कुछ नाश्ते के साथ चाय परोसना एक सदियों पुरानी परंपरा है, जिसे देश के सामाजिक-सांस्कृतिक ताने-बाने में एक धागे की तरह बुना जाता है।

चाय की पेशकश भारतीय समाज में आतिथ्य का प्रतीक है। गर्मी का मौसम हो, सर्दी हो, बरसात हो या बसंत, समोसा, कचौरी, आलू के पकौड़े, आलू के चिप्स आदि जैसे नाश्ते के साथ गर्म चाय का प्याला देश भर के घरों में मेहमानों की सेवा में एक आम बात है।

विभिन्न आयु वर्ग के भारतीयों को बिस्तर से उठने और दिन की शुरुआत सुबह चाय की चुस्की से करने की आदत होती है। सुबह चाय पीना उनकी दिनचर्या का हिस्सा है। भारतीय घरों में महिलाएं- मां, पत्नियां, या बहनें- सुबह की चाय को एक आदतन क्रिया के रूप में और परिवार के सदस्यों के लिए स्नेह के प्रतीक के रूप में बनाने का कर्तव्य निभाती हैं।

उनके द्वारा चाय बनाना घर के अन्य सदस्यों के लिए उनके प्यार और देखभाल का प्रतीक है। भारत में अधिकांश कार्यस्थलों पर कर्मचारियों को कुछ जलपान के लिए चाय की छुट्टी दी जाती है। वे चाय के ब्रेक के दौरान कई चीजों और दिन-प्रतिदिन के कार्यक्रमों पर चर्चा करते हैं।

वे इस समय अपने सहयोगियों के साथ बातचीत करते हैं और उनके करीब आते हैं। यह कर्मचारियों के लिए अच्छी कार्य संस्कृति के साथ एक स्वस्थ वातावरण बनाता है। भारत के कई क्षेत्रीय समुदायों में चाय बनाने से जुड़ी एक प्रथा है। नई दुल्हनों को ससुराल में अपने पहले दिन सुबह की चाय बनानी होती है।

एक नई दुल्हन से अपेक्षा की जाती है कि वह अपने पति को बिस्तर पर एक कप गर्म चाय परोस कर जगाएगी। अनादि काल से, यह एक भारतीय सांस्कृतिक परंपरा रही है। भारतीयों का शाम को भी चाय से लगाव होता है। शाम को काम से लौटने के बाद चाय की घूंट पुरुषों के लिए ऊर्जा और ताजगी की सांसों की तरह होती हैं।

इस तरह से चाय का भारतीय संस्कृति में बहुत महत्व है। अगर आप चाय की दुकान खोलना चाहते हैं, तो यह आपके लिए सुनहरा अवसर है। जो चीज इतनी मांग में रहती है, उससे संबधित काम करना हमेशा फायदेमंद होता है।

चाय की दुकान कैसे खोलें?

chai ki dukan kholkar crorepati kaise bane

विश्व स्तर पर, भारत चाय का सबसे बड़ा grower, producer और exporter है। हमारे देश का चाय मार्केट वैश्विक उत्पादन का 31% हिस्सा है। भारतीय चाय उद्योग लगभग 170 वर्ष पुराना है। भारत का उत्तरी और पूर्वी भाग चाय के प्रमुख उत्पादक क्षेत्र हैं। हालांकि देश के दक्षिणी हिस्से में नीलगिरि भी काफी मात्रा में चाय का उत्पादन करती है।

आम तौर पर भारत में तीन प्रमुख चाय उगाने वाले क्षेत्र दार्जिलिंग, असम और नीलगिरी हैं। इसके अतिरिक्त, अन्य चाय उगाने वाले क्षेत्र कर्नाटक, त्रिपुरा, हिमाचल प्रदेश, तमिलनाडु, केरल, मेघालय, मिजोरम और बिहार हैं। कोलकाता, सिलीगुड़ी, गुवाहाटी, कुन्नूर, कोचीन और कोयंबटूर प्रमुख चाय नीलामी केंद्र हैं।

चाय उद्योग भारतीय अर्थव्यवस्था में एक महत्वपूर्ण स्थान रखता है। उद्योग विदेशी मुद्रा की एक महत्वपूर्ण राशि अर्जित करता है। इसलिए जीडीपी पर इसका काफी असर पड़ता है। इसके अतिरिक्त, उद्योग देश में दूसरा सबसे बड़ा नियोक्ता है। क्योंकि उद्योग बहुत हद तक मशीन पर नहीं मानव श्रम पर निर्भर करता है।

इसलिए, हमारा देश नए उद्यमियों के लिए चाय का बिजनेस शुरू करने के लिए सबसे अच्छी जगह है। हालाँकि चाय का व्यवसाय शुरू करने के लिए निवेश और ज्ञान की आवश्यकता होती है। आप अपनी निवेश क्षमता और जोखिम लेने की क्षमता के अनुसार इस आकर्षक क्षेत्र में व्यवसाय शुरू कर सकते हैं।

1. चाय की ऑपर्चुनिटी चेक करें

कुछ लोगों के लिए चाय के बिना सुबह अजीब होती है और चाय के लिए ऐसा कोई स्पष्ट समय नहीं होता है। दिन का प्रत्येक हिस्सा हर बार चाय का समय होता है। भारत में एक व्यक्ति द्वारा रोजाना 2 कप चाय पीना मामूली सी बात है।

चाय की दुकान खोलने से पहले आपको अपने क्षेत्र में इसकी ऑपर्चुनिटी चेक करनी है। वैसे इसकी मांग हमेशा रहती है, लेकिन कई ऐसे क्षेत्र होते हैं। जहां लोग सिर्फ घरों पर ही चाय पीना पसंद करते हैं, न कि किसी दुकान पर जाकर। जैसे छोटे ग्रामीण इलाके और छोटी शहरी बस्तियाँ।

इस तरह आपको इस बात का पता लगाना है, कि आप जिस क्षेत्र में चाय की दुकान खोल रहे हैं। असल में वहाँ इसके लिए कितने अवसर है। आँख बंद कर शुरू किया गया कोई भी काम कभी सफल नहीं होता है।

2. बिजनेस मॉडल

आपकी निवेश क्षमता के आधार पर, चाय की दुकान के लिए बिजनेस प्लानिंग तैयार करनी चाहिए। आपके चाय बिजनेस मॉडल के आधार पर ही चाय की दुकान शुरू करना फायदे का सौदा है। चाय की दुकान की बिजनेस योजना बनाते समय, आपको अपनी दुकान को केवल चाय बेचने तक ही सीमित नहीं रखना चाहिए।

चाय बेचने के साथ-साथ आपको कुछ अन्य स्नैक्स भी बेचने होंगे जो लोग चाय के साथ लेते हैं। चाय की दुकान के लिए प्लानिंग बनाते समय आपको कुछ महत्वपूर्ण बातों को ध्यान रखना होगा। याद रखे आपकी प्लानिंग ही आपके बिजनेस की शुरुआत है। इसलिए अपने बेस को हमेशा मजबूत बनाना चाहिए।

चाय के अलावा अन्य स्नैक्स जैसे ब्रेड टोस्ट, बटर बिस्किट, ऑमलेट, नूडल्स, तंबाकू और सिगरेट बेचना अच्छा होता है। इसके अलावा उस सामग्री का चयन करें जिससे आप अपनी चाय की सप्लाइ करेंगे। आदर्श रूप से ज्यादातर लोग अपनी चाय को पेपर कप, कुल्हड़ और स्टील के गिलास में बेचते हैं। वह सामग्री चुनें जो आपके बजट में फिट हो।

आप जिस शहर या जगह पर चाय बेच रहे हैं, उसके आधार पर कीमतें तय होनी चाहिए। आमतौर पर चाय की कीमत 5 रुपये से 10 रुपये के बीच होती है। यदि आपके पास टी बार है, तो आप चाय को बहुत अधिक दरों पर बेच सकते हैं। सुनिश्चित करें कि आपकी चाय की दुकान में बैठने की व्यवस्था जैसे कुर्सियाँ, मेज आदि के लिए बजट शामिल है।

चाय भी कई प्रकार की होती है, जैसे कि नियमित चाय, मसाला चाय, काली चाय, हरी चाय, सफेद चाय, पीली चाय, अदरक की चाय, मसाला चाय, इलाची चाय, इत्यादि। आप चाय के स्वाद के आधार पर मूल्य निर्धारित कर सकते हैं।

3. मार्केट रिसर्च

अपनी चाय की दुकान करने से पहले, आपको यह पता लगाना होगा कि आप किस प्रकार के मार्केट में जा रहे हैं। इस जगह के संभावित ग्राहकों की जरूरतों को जानने के लिए आपको मार्केट रिसर्च करने और इसका गहराई से सर्वेक्षण करने की आवश्यकता है। जैसे किसी स्टॉल या चाय कैफे में जाने पर ग्राहक किस तरह की चाय पसंद है, वे ऐसी जगहों पर क्या देखते हैं।

आप उन लोगों से भी बात कर सकते हैं जिनकी आप जैसी ही दुकान हैं, यह जानने के लिए कि आप वास्तव में क्या कर रहे हैं। आपको उनसे बात करने पर एक आइडिया हो जाएगा कि चाय की दुकान के लिए क्या-क्या आवश्यकताएँ है। इसके बाद आपको मार्केट में जो आपके कंपीटीशन में है, उनके बारे में अच्छे से जानना है।

आप ग्राहकों से उनकी राय ले सकते हैं। एक ग्राहक ही सबसे बड़ी रिसर्च होती है, क्योंकि हम अपना प्रॉडक्ट अपने ग्राहकों को ही बेचेंगे। चाय की दुकान में उन्हें क्या पसंद है और क्या नहीं? इन पर आप उनसे बात करें। फिर आप वक्त और अनुभव के साथ सब सीखते चले जाएंगे।

4. अच्छी लोकेशन

लोकेशन किसी बिजनेस की सफलता और असफलता को निर्धारित करता है-चाहे चाय की दुकान हो या कुछ और। यह लगभग हर तरह के बिजनेस में महत्वपूर्ण है, इसलिए बिजनेस के मालिकों के लिए यह महत्वपूर्ण है कि वे ऐसे स्थान की तलाश करें जो उनके व्यवसाय के लिए अत्यंत उपयुक्त हो।

जब लोकेशन सिलेक्ट करने की बात आती है, तो कोई भी चाय की दुकान के इलाके को चुन सकता है जिसे जनता द्वारा एक्सेस किया जाता है। चाय की दुकान शुरू करते समय प्रारंभिक सेटअप के लिए एक छोटा क्षेत्र पर्याप्त होता है। हालांकि स्थापना और संचालन उपकरण, बर्तन और कच्चे माल के लिए लगभग 500 वर्ग फुट की एक चाय बार की आवश्यकता होती है।

बैठने की व्यवस्था भी उपलब्ध स्थान के अनुसार या दुकान पर होनी चाहिए। लेकिन यह व्यवस्था करना महत्वपूर्ण है कि आपके ग्राहकों के पास बैठने के लिए भी अच्छी जगह हो। एक बार जब आप लोकेशन चुन लेते हैं, तो आप बस उसे अंतिम रूप दे सकते हैं और चाय की बिक्री शुरू कर सकते हैं।

चाय की दुकान के लिए लोकेशन चुनते समय आपको इस बात का ध्यान रखना है, कि वह ऐसी जगहों पर हो जहां लगातार चाय की मांग रहती है। आप किसी मौहल्ले में चाय की दुकान नहीं खोल सकते, क्योंकि वहाँ तो लोग ज़्यादातर अपने घरों में ही चाय बनाते हैं।

आपको स्कूल, कॉलेज, हॉस्पिटल, इंडस्ट्री एरिया, बस स्टैंड, रेलवे स्टेशन आदि किसी भीड़-भाड़ वाली जगह पर दुकान बनानी चाहिए। आपको सबसे ज्यादा ग्राहक वहाँ ही मिलेंगे, जहां आसपास बहुत कम निवास करने के स्थान हो।

5. दुकान के लिए आवश्यकताएं

आवश्यकताएं वास्तव में उस प्रकार के स्टार्टअप पर निर्भर करती हैं जिसे आप स्थापित करने की योजना बना रहे हैं: एक छोटा चाय स्टाल या एक कैफे।

चाय की दुकान जैसे छोटे स्टार्टअप के लिए, आपको इतने निवेश की आवश्यकता नहीं है, और न ही आपको अपना स्टॉल लगाने के लिए महंगी सामग्री की आवश्यकता है क्योंकि एक स्टॉल का पूरा फोकस आपकी ‘देसी’ जड़ों से जुड़ा रहता है। 50,000 रुपए का निवेश आपको दुकान शुरू करने के लिए पर्याप्त है।

दूसरी ओर टी बार या कैफे जैसे अधिक प्रामाणिक प्रतिष्ठान के लिए, आपको अधिक निवेश की आवश्यकता होती है। महानगरों के लिए यह राशि 30 लाख तक जा सकती है। आपको कैफे या बार को अधिक आकर्षक और सुंदर बनाने के लिए आवश्यक इनटिरियर, फर्नीचर, उपकरण अन्य सामग्री में निवेश करना होगा।

इसके अलावा अगर आप चाय की दुकान शुरू करना चाहते हैं, तो आपको एक सफल बिजनेस चलाने के लिए आवश्यक सभी आवश्यकताओं की व्यवस्था करनी होगी। चाय बेचने के लिए आवश्यक कुछ महत्वपूर्ण वस्तुएँ इस प्रकार है। जैसे चाय बनाने का बर्तन, एलपीजी सिलेंडर, केतली, चूल्हा, परोसने का गिलास, ग्लास डालने वाला, दूध, चीनी, पानी, चाय पाउडर/मसाला और अन्य संबंधित सामग्री।

इन सब के अलावा आपको बैठने की भी व्यवस्था करनी होगी। लेकिन इस बात का ध्यान रखें, जहां ग्राहक चाय पीते हैं, वो जगह पूरी तरह से स्वच्छ होनी चाहिए। स्वच्छता से आपकी दुकान की इमेज मार्केट में अच्छी बनेगी।

6. रजिस्ट्रेशन

अधिकांश चाय स्टाल मालिक अपना बिजनेस प्रोपराइटरशिप फर्म के रूप में चलाते हैं। इसका मतलब है कि वे अपने पैन कार्ड के तहत काम करते हैं। इसके अतिरिक्त एक प्रोपराइटरशिप फर्म के रूप में चलाने के लिए, आपको उस नगरपालिका प्राधिकरण से एक ट्रेड लाइसेंस प्राप्त करना होगा जिसमें आप अपना व्यवसाय संचालित करते हैं।

हालाँकि, यदि आप एक टी बार खोल रहे हैं, तो आपको खाद्य सुरक्षा नियमों के लिए अपने शहर के कानूनों को जानना होगा और FSSAI (भारतीय खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण) रजिस्ट्रेशन प्राप्त करना होगा। एक और चीज जो आपको करनी चाहिए वह है अपने आप को एक फायर लाइसेंस प्राप्त करना, जो यह सुनिश्चित करेगा कि यदि आपके क्षेत्र में ऐसी चीजें लागू हैं तो आप स्थानीय फायर कोड नियमों के अनुपालन में रहें।

7. चाय की दुकान खोलना

चाय की दुकान चलाने के लिए आपको एक अच्छी लोकेशन और फ्लोर प्लान की जरूरत होती है। अपनी लोकेशन के लिए विशिष्ट आवश्यकताओं का पता लगाएं, जैसे बाहरी कैफे की अनुमति, या अपने स्टाल के भीतर बैठने की जगह का आकार। मूविंग फर्नीचर में निवेश करने पर विचार करें ताकि आप त्योहारों और मेलों आदि के दौरान बाहर चाय बेच सकें।

सुनिश्चित करें कि आपकी कॉर्पोरेट पहचान (नाम-ब्रांड लोगो, रंग योजना) दूर से दिखाई दे रही है। इसके अलावा, आप मूविंग वैन पर स्टॉल खोलने पर विचार कर सकते हैं। इस मामले में आप मौसम के अनुसार अपना स्थान बदल सकते हैं। मूविंग वैन में चाय की दुकान खोलने से आप किसी भी लोकेशन पर चाय बेच सकते हैं।

8. प्रमोशन और मार्केटिंग

अब जब आपने अपनी चाय की दुकान शुरू कर ली है, तो आपको इसके बारे में भी जागरूकता पैदा करनी चाहिए। लोग आपके नए व्यवसाय के बारे में कैसे जानते हैं? यह मुख्य रूप से आपके द्वारा बनाए गए प्रॉडक्ट की क्वालिटी के माध्यम से है। आपको उच्च क्वालिटी की चाय बनाकर देनी है, ताकि आपका ग्राहक बेस बना रहे।

यह एक अच्छा कदम है कि अधिक लोग आपकी दुकान के बारे में अधिक से अधिक जानें। इसके लिए आप डिस्काउंट दे सकते हैं, ताकि ग्राहकों को सामान्य से अधिक खरीदने के लिए प्रोत्साहित किया जा सके।

आज की आधुनिक दुनिया में, ऑनलाइन ऑर्डर करने वाली वेबसाइट के उपयोग से भारत में चाय की दुकान के बिजनेस को एक नए स्तर पर ले जाया जा रहा है। एक उच्च गुणवत्ता वाली वेबसाइट बनाने की धारणा जो यूजर्स को ऑनलाइन चाय खरीदने के लिए प्रोत्साहित करती है, एक शानदार तरीका है।

इसके अलावा चाय की दुकान में बिक्री बढ़ाने के लिए नए तरीकों को अपनाया जा सकता है। वेबसाइट बनाना, इंटरनेट विज्ञापन और ब्रांडिंग की बदौलत बिक्री दर बढ़ेगी, और आपकी चाय की दुकान की प्रतिष्ठा में सुधार होगा।

इसके अलावा सोश्ल मीडिया का उपयोग भी अपनी चाय की दुकान की मार्केटिंग के लिए कर सकते हैं। सबसे अच्छी मार्केटिंग वर्ड-ऑफ-माउथ मार्केटिंग है। जिसमें एक ग्राहक दूसरे ग्राहक को आपके बिजनेस के बारे में बताता है।

इसमें कितना प्रॉफ़िट है?

chai business profit

लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि एक चाय बेचने वाला वास्तव में कितना कमाता है? और बिजनेस मॉडल वास्तव में कैसे काम करता है? आज हम आपको एक आइडिया देना चाहेंगे कि एक चाय बेचने वाला अलग-अलग वर्कप्लेस पर कितना कमा सकता है।

सबसे पहले, आइए समझते हैं कि प्रत्येक चाय की दुकान के काम के घंटे क्या हैं।

  • दफ्तरों के पास चाय की दुकानें – हर दिन 10 घंटे काम करना- 700-800 कप बेचता है।
  • हाईवे पर चाय की दुकानें – हर दिन 14 घंटे काम करना – 300-400 कप बिकता है।
  • बाजारों में चाय की दुकानें – हर दिन 12 घंटे काम करना – 700 कप बेचता है।

दफ्तरों के पास चाय की दुकान पर 800 कप रोजाना 7 रुपये में बेचने पर औसतन 5600 रुपये की कमाई होती है। हाईवे पर चाय की दुकान 400 कप रोजाना 10 रुपये में बेचने पर औसतन 4000 रुपये की कमाई होती है। बाजारों में चाय की दुकान 700 कप रोजाना 7 रुपये में बेचने पर औसतन 4900 रुपये की कमाई होती है।

इसमे आपका प्रति दिन का खर्च (सहित- दूध, चीनी, चाय, अदरक, गैस और कप) इस प्रकार से है। कार्यालयों के पास चाय की दुकान का 4000 रुपये, हाईवे पर चाय की दुकान का 2000 रुपये और बाजारों में चाय की दुकान का 3500 रुपए है।

इससे आपकी प्रति माह आय कार्यालयों के पास चाय की दुकान पर 40,000 रुपये (महीने में 25 दिन काम करना), हाईवे पर चाय की दुकान पर 60,000 रुपये (महीने में 30 दिन काम करना) और बाजारों में चाय की दुकान पर 40,000 रुपये (महीने में 28 दिन काम करना) होती है।

यह तो एक बेसिक कमाई और खर्चा है। इसमें आपको किराया आदि के लिए भी खर्च करना पड़ सकता है। और आपके पास चाय बनाने की सामग्री सस्ती या महंगी हो सकती है। इसके अलावा आप अपने मार्केट के हिसाब से अपनी चाय की कीमत का निर्धारण कर सकते हैं। कुल मिलाकर यह एक प्रोफीटेबल काम है।

इनको भी जरुर पढ़े:

निष्कर्ष:

तो दोस्तों ये था अपनी खुद की चारी की दुकान कैसे खोले, हम उम्मीद करते है की इस पोस्ट को पढ़ने के बाद आपको अपनी चाय की शॉप खोलने में कोई भी दिक्कत नहीं आएगी.

अगर आपको हमारी पोस्ट अच्छी लगी तो प्लीज इसको शेयर जरुर करें ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग ये सिंपल बिजनेस करके पैसे कमा सके.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

X